Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2017 · 1 min read

गरीब बेरोजगार

गरीब बेरोजगार

मेरे घर में तीन आंखें
तीनों निस्तेज, भावना रहित
आशा बदली निराशा में
तीनों चुपचाप
टकटकी लगाए
इंतजार में हैं
शायद किसी के
मां की आंखें
छितरी, मिट्टी की भांति
छितर-छितर रह जाती हैं
हल्की-सी हवा भी
आंधी-सी नजर आती है
शैलाब फुट पड़ता है
बहने लगती है
अरमानों की नदी
रोक कर भी
नही रोक पाती
इनमें ऐसी बाढ़ है आती
यह देख फिर
पिता की आंखें
बालू के अरबों कण बन
लगते हैं इधर-उधर भटकने
ऐसे में रास्ता भूल
होने लगती है वर्षा
हृदय भी जाता है भर
कुंभला जाता है कंठ
बोले ! तो बोला नही जाता
आंखों से बहने वाली नदी
आती है तीसरी आंख में
ये सभी तो हो रहा है
उस गरीब की आंखों में
जो अनेक अरमान संजोकर
बढ़ता है, पढ़ाता है।
गरीब ! अपनी संतान पर
फिर जीवन भर की
सारी पूंजी लुटा देता है
फिर बेरोजगारी ओर रिश्वत
तोड़ देती है कमर उसकी
निस्तेज आंखों से
फुट पड़ते हैं
सभी अरमान एक साथ
इकट्ठे हो उमड़ पड़ते हैं

Language: Hindi
234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गीतिका/ग़ज़ल
गीतिका/ग़ज़ल
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेहद मुश्किल हो गया, सादा जीवन आज
बेहद मुश्किल हो गया, सादा जीवन आज
महेश चन्द्र त्रिपाठी
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
💐प्रेम कौतुक-208💐
💐प्रेम कौतुक-208💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
दुआ किसी को अगर देती है
दुआ किसी को अगर देती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
आईने में ...
आईने में ...
Manju Singh
धाराओं में वक़्त की, वक़्त भी बहता जाएगा।
धाराओं में वक़्त की, वक़्त भी बहता जाएगा।
Manisha Manjari
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
श्याम सिंह बिष्ट
#चाकलेटडे
#चाकलेटडे
सत्य कुमार प्रेमी
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
मोबाइल महिमा
मोबाइल महिमा
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"एक हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
यादें....!!!!!
यादें....!!!!!
Jyoti Khari
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
एकांत बनाम एकाकीपन
एकांत बनाम एकाकीपन
Sandeep Pande
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
शेखर सिंह
हाइकु- शरद पूर्णिमा
हाइकु- शरद पूर्णिमा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*हल्दी (बाल कविता)*
*हल्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
शिक्षा और संस्कार जीवंत जीवन के
Neelam Sharma
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
सच्चा धर्म
सच्चा धर्म
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
Harminder Kaur
दुआ के हाथ
दुआ के हाथ
Shekhar Chandra Mitra
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...