Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

गरीबों की जिंदगी

कभी नमक,
कभी कपड़े,
दवा भी लेनी है,
त्योहार की तैयारी चल रही होती है,
बेटी की विदाई भी आ जाती है,
उन्हें उपहार मे साड़ी,
धोती और कुर्ता देने की परंपरा ही है ।

शरद ऋतु में भरे हुए गोदाम,
वसंत में खुलता है,
उससे निकाल अनाज पूरी टोकरियाँ
सिर पर लिए बाजार जाना ही है,
कुछ अधिक मोल पाने की लालच मे
मोलमोलाई करना मजबूरी है ।

चूल्हे पर आग,
अनियमित हुए कई महीने हो गए,
कभी लड़का भूखा, कभी बूढी माँ और बाप,
वह ऐसे ही सोता है,
मालिक ‘हमे अनाज दो,
गरीबों को बार–बार भीख मांगनी पड़ती है,
गरीबों की जिंदगी ऐसे ही चलती है ।

#दिनेश_यादव
काठमाण्डू (नेपाल)

Language: Hindi
1 Like · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"दिल कहता है"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
💐प्रेम कौतुक-417💐
💐प्रेम कौतुक-417💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐलान कर दिया....
ऐलान कर दिया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
जीवन से पलायन का
जीवन से पलायन का
Dr fauzia Naseem shad
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
अहसास
अहसास
Sandeep Pande
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
भारती-विश्व-भारती
भारती-विश्व-भारती
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
Paras Nath Jha
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
Phool gufran
अपने साथ तो सब अपना है
अपने साथ तो सब अपना है
Dheerja Sharma
प्राचीन दोस्त- निंब
प्राचीन दोस्त- निंब
दिनेश एल० "जैहिंद"
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
तैराक (कुंडलिया)
तैराक (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दीवाने प्यार के हम तुम _ छोड़े है दुनियां के भी  गम।
दीवाने प्यार के हम तुम _ छोड़े है दुनियां के भी गम।
Rajesh vyas
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
अर्ज किया है
अर्ज किया है
पूर्वार्थ
3265.*पूर्णिका*
3265.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मजदूर
मजदूर
umesh mehra
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
Atul "Krishn"
"मित्र से वार्ता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Sakshi Tripathi
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
Shubham Pandey (S P)
कितना प्यार करता हू
कितना प्यार करता हू
Basant Bhagawan Roy
तुम न समझ पाओगे .....
तुम न समझ पाओगे .....
sushil sarna
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
गृहस्थ-योगियों की आत्मा में बसे हैं गुरु गोरखनाथ
कवि रमेशराज
Loading...