Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2022 · 1 min read

गरीबक जिनगी (मैथिली कविता)

#दिनेश यादव

कहियो नूनतेल,
कहियो लत्ताकपडा,
दबाईकें जोगाड त लगेबाक अइछे,
पवनिकें तयारी त चलिते रहैक छैक,
बेटीक बिदागरी सेहो आबि जाइत छैक,
सनेसबारीमें चंगेरा भरबाक छइहें,
एक खड साडी,
धोती आ कुर्ताके त देबाक परम्परे छैक ।

बौआबुच्चीके शनिचराक लेल,
चउरक इन्तजाम त भँ जाइत छैक,
गुरुदेवक दक्षिणाक चौवन्नीके लेल,
पसिना छुटैट छैक,
सुपारीक जोगाड मे,
मौनीभरि धान लए दोकान दौडबाक अइछे,
फाहमें सक्कर त मांगैह पडैत छैक ।

अगहनमें भरल कोठी,
पुसमे खुलि जाइत छैक,
माथपर भरि पथियाँ धान
लए बजार जेबाके छईहे,
चारि आना बेसी मोल भेटक की ?,
ताहिलेल एक चट्टी सँ दोसर,
आ तेसरमें दौड लगेबाक वाध्यता छैक ।

चुल्ही पर आँच,
अनियमित भेला महिनों भँ गेल छैक,
कहियो बौआ भुखले, कहियो बृद्ध म्या आ बाबु,
ओहिना सुति रहैत छैक,
मालिक हौ, अन्न दहक,
गरीबकें बेर–बेर लेहारा करैइये पडैय छैक,
एक गोटा गरिबक जिनगी अहिना चलैत छैक ।

Language: Maithili
2 Likes · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
View all
You may also like:
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
किताबों वाले दिन
किताबों वाले दिन
Kanchan Khanna
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
Monika Verma
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
बिल्ली की तो हुई सगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
पानी का संकट
पानी का संकट
Seema gupta,Alwar
ना तो कला को सम्मान ,
ना तो कला को सम्मान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
रंगों का नाम जीवन की राह,
रंगों का नाम जीवन की राह,
Neeraj Agarwal
दोहा छंद
दोहा छंद
Seema Garg
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
Vandna thakur
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
Paras Nath Jha
केवल “ॐ” कार है
केवल “ॐ” कार है
Neeraj Mishra " नीर "
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर  वार ।
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर वार ।
sushil sarna
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
बगावत की आग
बगावत की आग
Shekhar Chandra Mitra
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
The magic of your eyes, the downpour of your laughter,
Shweta Chanda
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मेरी हैसियत
मेरी हैसियत
आर एस आघात
संस्कारों की पाठशाला
संस्कारों की पाठशाला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
भोली बिटिया
भोली बिटिया
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
“मेरे जीवन साथी”
“मेरे जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
*****श्राद्ध कर्म*****
*****श्राद्ध कर्म*****
Kavita Chouhan
अच्छी बात है
अच्छी बात है
Ashwani Kumar Jaiswal
मैं भारत का जवान हूं...
मैं भारत का जवान हूं...
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...