Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

गये ज़माने की यादें

टुकड़ा-टुकड़ा, उखड़ा-उखड़ा दिन बीता करता है,
गये ज़माने की यादों में बूढ़ा मन खोया रहता है

माँ की गोद, बाप का काँधा, दादी माँ की लोरी
नीम तले का पड़ा खटोला, कथरी, तकिया, लोई
डगमग चलते पैरों से गिर कर सम्हला करता है
गये ज़माने की यादों में बूढ़ा मन खोया रहता है

कलुआ कुत्ता, भूरी गइया, कबरी वाली बिल्ली
दूध-भात और चुपड़ी रोटी, खायी कितनी फेंकी ?
तुतले-तुतले बतरस को मन में गुनता रहता है
गये ज़माने की यादों में बूढ़ा मन खोया रहता है

खेल-कबड्डी, गुड़िया-गुड्डा, शाला, बुदका, तख़्ती
बाकी-जोड़, ककहरा, गिनती, मास्टर जी की सन्टी
खेल-मज़े या पढ़ने के गुण-दोष गिना करता है
गये ज़माने की यादों में बूढ़ा मन खोया रहता

चढ़ी जवानी, प्यार-मोहब्बत, नून-तेल और लकड़ी
शादी-बच्चे, जिम्मेदारी या इकलौती मस्ती
चाकर बन कर, बच्चे जनकर मन घुटता रहता है
गये ज़माने की यादों में बूढ़ा मन खोया रहता है

बीता बचपन, गयी जवानी, पड़ी बदन भर झुर्री
दाँत हीन मुँह, काया जर्जर, दुखती पसली-हड्डी
वृद्धाश्रम की एक खाट पर जीवन चुकता रहता है
गये ज़माने की यादों में बूढ़ा मन खोया रहता है

1 Like · 66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िन्दगी और प्रेम की,
ज़िन्दगी और प्रेम की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम बेजान हैं।
हम बेजान हैं।
Taj Mohammad
पुच्छल दोहा
पुच्छल दोहा
सतीश तिवारी 'सरस'
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
Paras Nath Jha
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा निवेदन
दोहा निवेदन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
7) पूछ रहा है दिल
7) पूछ रहा है दिल
पूनम झा 'प्रथमा'
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Sûrëkhâ Rãthí
హాస్య కవిత
హాస్య కవిత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
Shashi kala vyas
2773. *पूर्णिका*
2773. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
कर्म ही हमारे जीवन...... आईना
कर्म ही हमारे जीवन...... आईना
Neeraj Agarwal
पैगाम डॉ अंबेडकर का
पैगाम डॉ अंबेडकर का
Buddha Prakash
सवाल
सवाल
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-339💐
💐प्रेम कौतुक-339💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जिन्दा हो तो,
जिन्दा हो तो,
नेताम आर सी
*अमर तिरंगा रहे हमारा, भारत की जयकार हो (गीत)*
*अमर तिरंगा रहे हमारा, भारत की जयकार हो (गीत)*
Ravi Prakash
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
महाप्रलय
महाप्रलय
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मैंने पत्रों से सीखा
मैंने पत्रों से सीखा
Ms.Ankit Halke jha
अभिमान
अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"एकान्त"
Dr. Kishan tandon kranti
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
हाइकु- शरद पूर्णिमा
हाइकु- शरद पूर्णिमा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...