Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

गमे दर्द नगमे

गमे दर्द नगमे

मिलता रहा गम- ए दर्द जिंदगी में
दर्द में भी गुनगुनाती रही
उठता रहा धुआं सीने में
और मैं खुद को जलाती रही
खुदगर्जी की महफिल में
हर बार यूं रुसवा रही
की बार-बार खुद को ही में मानते रही
हर बार दिल तोड़ा गया
तन्हा फिर मुझे छोड़ गया
फिर भी गमों की महफिल सजती रही ख्वाब भी मेरे रूठे
सपने भी मेरे टूटे
सदा दिल तड़पता रहा
मगर फिर भी रंगों सी बहती रही
मिलता रहा ग़म-ए दर्द जिंदगी में
दर्द में भी गुनगुनाती रही
जिंदगी का साथ मैं सजाती रही

1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मातृत्व"
Dr. Kishan tandon kranti
କଳା ସଂସ୍କୃତି ଓ ପରମ୍ପରା
କଳା ସଂସ୍କୃତି ଓ ପରମ୍ପରା
Bidyadhar Mantry
प्रयास जारी रखें
प्रयास जारी रखें
Mahender Singh
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
Shreedhar
*वह बिटिया थी*
*वह बिटिया थी*
Mukta Rashmi
भाव तब होता प्रखर है
भाव तब होता प्रखर है
Dr. Meenakshi Sharma
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
Basant Bhagawan Roy
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
फिलिस्तीन इजराइल युद्ध
फिलिस्तीन इजराइल युद्ध
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
5. *संवेदनाएं*
5. *संवेदनाएं*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
23/123.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/123.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*
*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
देवर्षि नारद जी
देवर्षि नारद जी
Ramji Tiwari
हीर और रांझा की हम तस्वीर सी बन जाएंगे
हीर और रांझा की हम तस्वीर सी बन जाएंगे
Monika Arora
मुस्कुरा दीजिए
मुस्कुरा दीजिए
Davina Amar Thakral
एक पति पत्नी के संयोग से ही एक नए रिश्ते का जन्म होता है और
एक पति पत्नी के संयोग से ही एक नए रिश्ते का जन्म होता है और
Rj Anand Prajapati
बघेली कविता -
बघेली कविता -
Priyanshu Kushwaha
Dear Cupid,
Dear Cupid,
Vedha Singh
पतंग
पतंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
शायरी
शायरी
गुमनाम 'बाबा'
*मर्यादा*
*मर्यादा*
Harminder Kaur
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ
इच्छाएं.......
इच्छाएं.......
पूर्वार्थ
वो राम को भी लाए हैं वो मृत्युं बूटी भी लाए थे,
वो राम को भी लाए हैं वो मृत्युं बूटी भी लाए थे,
शेखर सिंह
यूं ही कोई लेखक नहीं बन जाता।
यूं ही कोई लेखक नहीं बन जाता।
Sunil Maheshwari
अनुभूति
अनुभूति
Pratibha Pandey
Loading...