Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

बॉर्डर पर जवान खड़ा है।

ठंड लग रही बड़ी जोर से,
हाड़ कांपता चहुँ ओर से।
फिर भी सीना तान खड़ा है,
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।

मन तो उसका भी है करता,
ओढ़ रजाई मैं सो जाऊं।
सुबह शाम की दो रोटी,
मैं भी माँ के हाथ की खाऊं।

अपने बच्चों के संग खेलूं,
मैं भी उन संग लाड़ लड़ाऊं।
बैठे वो मेरी पीठ पर ,
घोड़ा बन उनको में खिलाऊँ।

वर्षा हो,ठंड हो या हो गर्मी,
‘दीप’ सीना ताने सदा खड़ा हैं।
प्रकाश से उसके वतन है रोशन,
जज्बा उसका बहुत बड़ा है ।

बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।

-जारी
-©कुलदीप मिश्रा

Language: Hindi
1 Like · 77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीभ का कमाल
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
*खड़ी हूँ अभी उसी की गली*
*खड़ी हूँ अभी उसी की गली*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ये सफर काटे से नहीं काटता
ये सफर काटे से नहीं काटता
The_dk_poetry
दूरी जरूरी
दूरी जरूरी
Sanjay ' शून्य'
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
पूर्वार्थ
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अपनी क़िस्मत को हम
अपनी क़िस्मत को हम
Dr fauzia Naseem shad
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कतौता
कतौता
डॉ० रोहित कौशिक
शिव का सरासन  तोड़  रक्षक हैं  बने  श्रित मान की।
शिव का सरासन तोड़ रक्षक हैं बने श्रित मान की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
फैसला
फैसला
Dr. Kishan tandon kranti
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
किसान,जवान और पहलवान
किसान,जवान और पहलवान
Aman Kumar Holy
Janeu-less writer / Poem by Musafir Baitha
Janeu-less writer / Poem by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
Keshav kishor Kumar
एक गिलहरी
एक गिलहरी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
पतझड़ की कैद में हूं जरा मौसम बदलने दो
पतझड़ की कैद में हूं जरा मौसम बदलने दो
Ram Krishan Rastogi
फिल्मी नशा संग नशे की फिल्म
फिल्मी नशा संग नशे की फिल्म
Sandeep Pande
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
मेरा मन उड़ चला पंख लगा के बादलों के
shabina. Naaz
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
*तुम्हारी पारखी नजरें (5 शेर )*
Ravi Prakash
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
*प्रेम कविताएं*
*प्रेम कविताएं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2761. *पूर्णिका*
2761. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंधेरों में अस्त हो, उजाले वो मेरे नाम कर गया।
अंधेरों में अस्त हो, उजाले वो मेरे नाम कर गया।
Manisha Manjari
#डॉअरुणकुमारशास्त्री
#डॉअरुणकुमारशास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कड़वा है मगर सच है
कड़वा है मगर सच है
Adha Deshwal
Loading...