Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 5, 2016 · 1 min read

फ़लक से चाँद किसी दिन जमीं पे लायेंगे

“गज़ल”
मतला-
जरा सा सब्र करो हम हुनर दिखायेंगे।
फलक से चाँद जमीं पे किसी दिन लायेंगे।

गुरुर कर न ए तूफान खुद पे तू इतना,
तेरी गली में भी हम इक दिया जलायेंगे।

न प्यार करते,अगर हमको ये पता होता,
वो इस तरह से मेरे दिल को आजमायेंगे।

खबर नहीं थी मुहब्बत में बेवफा हमको,
सजा ये प्यार कि हम बेवजह ही पायेंगे।

गुजर तो जाने दे उस दौर को सनम ,फिर से
मेरे भी दिल के सभी जख्म मुस्कुरायेंगे।

उसे भी दर्द का ऐहसास एक दिन होगा,
किसी के प्यार में जब वो भी चोट खायेंगे।

मक्ता-
नकार कितना भी तू पर यकीं है ये मुझको,
गज़ल विनोद की सब लोग गुनगुनायेंगे।
#विनोद

2 Comments · 157 Views
You may also like:
जीवन
vikash Kumar Nidan
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
अनामिका सिंह
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
✍️स्त्री : दोन बाजु✍️
"अशांत" शेखर
वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शहर को क्या हुआ
अनामिका सिंह
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
मैं पुकारती रही
अनामिका सिंह
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
चाय की चुस्की
श्री रमण
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुझको मालूम नहीं
gurudeenverma198
केंचुआ
Buddha Prakash
"शौर्य"
Lohit Tamta
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐भगवत्कृपा सर्वेषु सम्यक् रूपेण वर्षति💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नादानियाँ
अनामिका सिंह
Loading...