Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

गजल

मुहब्बत की सियासत और क्या है
बिना इसके हकीकत और क्या है

चलो बचके सड़क पर मनचलों से
बुजुर्गों की नसीहत और क्या है

हमेशा को नहीं रहते जवाँ सब
जवानी की हरारत और क्या है

छुपे से प्यार करना और मिलना
इसके सिवा मुहब्बत और क्या है

बगावत रोज खुद से ही करेगे
युवाओं की मुसीबत और क्या है

लगी है आग जेहन में तभी तो
सिवा तेरे मुहब्बत और क्या है

मिला है ईश का वरदान सबको
प्यार को छोड़ जन्नत और कहाँ है

जगी है प्यास पीने की हलक तक
सभी की है न हिम्मत और क्या है

जरा उन आशिकों से पूछ लेना
लुटाया खुद लगी जब लत और क्या है

जुदा वो हो गया खुद से बिछड़ के
जवानी लौं जली खत और क्या है

70 Likes · 1 Comment · 570 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
रूकतापुर...
रूकतापुर...
Shashi Dhar Kumar
व्यस्तता जीवन में होता है,
व्यस्तता जीवन में होता है,
Buddha Prakash
The wrong partner in your life will teach you that you can d
The wrong partner in your life will teach you that you can d
पूर्वार्थ
【31】*!* तूफानों से क्या ड़रना? *!*
【31】*!* तूफानों से क्या ड़रना? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बात
बात
Ajay Mishra
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
Sidhartha Mishra
वस्तु वस्तु का  विनिमय  होता  बातें उसी जमाने की।
वस्तु वस्तु का विनिमय होता बातें उसी जमाने की।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
धड़कूँगा फिर तो पत्थर में भी शायद
धड़कूँगा फिर तो पत्थर में भी शायद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मोल
मोल
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
विश्वगुरु
विश्वगुरु
Shekhar Chandra Mitra
2926.*पूर्णिका*
2926.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
*** सिमटती जिंदगी और बिखरता पल...! ***
VEDANTA PATEL
#अनंत_की_यात्रा_पर
#अनंत_की_यात्रा_पर
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
मैं पढ़ने कैसे जाऊं
मैं पढ़ने कैसे जाऊं
Anjana banda
पश्चाताप
पश्चाताप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYAA
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
नंद के घर आयो लाल
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
सेवा की महिमा कवियों की वाणी रहती गाती है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तमाशाई नज़रों को।
तमाशाई नज़रों को।
Taj Mohammad
पैसा  (कुंडलिया)*
पैसा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
"मुखौटे"
इंदु वर्मा
मौन
मौन
Shyam Sundar Subramanian
Loading...