Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Sep 2016 · 1 min read

खफ़ा हूँ मैं

“खफ़ा हूँ मैं”
*************

खफा हूँ मैं,
हाँ तुझसे बहुत खफा हूँ मैं,
मुझसे क्या नाराज़गी है तेरी,
तू बताता क्यों नहीं,
मेरे साथ जो होता है,
गर मेरी सज़ा है,
वजह बताता क्यों नहीं,
क्या अभी तक तेरा मन नहीं भरा,
अभी कल ही आइना देखा
सन्न रह गया,
मेरी दाढ़ी में से झांक रहे थे
कुछ सफ़ेद बाल
ये क्या हो गया,
क्या मैं बूढ़ा हो रहा हूँ,
३२ की वय सफेदी का आना,
ये कहाँ का न्याय है,
आज आइना देखता हूँ,
सर पर, चेहरे पर
सफेदी ही नजर आती है,
जिया भी नहीं हूँ मैं
अभी तो ढंग से
और तूने मुझे क्या बना दिया है,
मुझसे उम्रदराज लोग भी,
मुझसे छोटे नजर आते हैं,
और तू मुझसे क्या उम्मीद रखता है,
क्या दूँ मैं तुझे,
कहाँ से लाऊँ श्रद्धा मैं तेरे लिए,
मैं बहुत खफा हूँ तुझसे,
बहुत बहुत खफा हूँ।

“संदीप कुमार”

From the wall:
https://www.facebook.com/Sandeip001?fref=nf

Language: Hindi
539 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेबाक ज़िन्दगी
बेबाक ज़िन्दगी
Neelam Sharma
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
परीक्षा
परीक्षा
Er. Sanjay Shrivastava
विषधर
विषधर
Rajesh
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
वक्त के इस भवंडर में
वक्त के इस भवंडर में
Harminder Kaur
आँखों   पर   ऐनक   चढ़ा   है, और  बुद्धि  कुंद  है।
आँखों पर ऐनक चढ़ा है, और बुद्धि कुंद है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
surenderpal vaidya
तेरी याद
तेरी याद
SURYAA
संत गाडगे संदेश 5
संत गाडगे संदेश 5
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दीदार
दीदार
Vandna thakur
ज़िंदगी के वरक़
ज़िंदगी के वरक़
Dr fauzia Naseem shad
"फ़िर से तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया
सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ एक गुज़ारिश
■ एक गुज़ारिश
*Author प्रणय प्रभात*
डाल-डाल तुम हो कर आओ
डाल-डाल तुम हो कर आओ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
पश्चिम हावी हो गया,
पश्चिम हावी हो गया,
sushil sarna
❤बिना मतलब के जो बात करते है
❤बिना मतलब के जो बात करते है
Satyaveer vaishnav
चाय-दोस्ती - कविता
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
Vishal babu (vishu)
धन्यवाद कोरोना
धन्यवाद कोरोना
Arti Bhadauria
2960.*पूर्णिका*
2960.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता तुम क्या हो?
कविता तुम क्या हो?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जीवन की अफरा तफरी
जीवन की अफरा तफरी
कवि आशीष सिंह"अभ्यंत
दिखती  है  व्यवहार  में ,ये बात बहुत स्पष्ट
दिखती है व्यवहार में ,ये बात बहुत स्पष्ट
Dr Archana Gupta
***
*** " मन मेरा क्यों उदास है....? " ***
VEDANTA PATEL
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
*एमआरपी (कहानी)*
*एमआरपी (कहानी)*
Ravi Prakash
Loading...