Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2022 · 1 min read

ख्वाहिश

ये जो दिन बीते हैं ख्वाहिश में
इनसे कह दो ये न दोबारा हो।
इस कदर तुम मे समाया
जैसे गलियों का आवारा हो |
बैठे-बैठे बस यही सोचा…
काश अगला समय हमारा हो।।
इतना पत्थर तुम बने कैसे,
मेरे गमों का तुम सहारा हो ।।
आज का दिन ऐसे गुजरा है
जैसे वर्षों तलक गुजारा हो

©®अमरेश मिश्र

3 Likes · 1 Comment · 34 Views
You may also like:
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
और मैं बहरी हो गई
Kaur Surinder
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
रावण पुतला दहन और वह शिशु
राकेश कुमार राठौर
✍️व्हाट्सअप यूनिवर्सिटी✍️
'अशांत' शेखर
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
कृष्ण
Neelam Sharma
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
गीत
Shiva Awasthi
कहो‌ नाम
Varun Singh Gautam
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
हर किसी की बात नही
Anamika Singh
चतुर्मास अध्यात्म
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पाकिस्तान का ख़्वाब देने वाला शायर इक़बाल
Shekhar Chandra Mitra
डरता हुआ अँधेरा ?
DESH RAJ
'एक सयानी बिटिया'
Godambari Negi
जिन्दगी एक तमन्ना है
Buddha Prakash
हरा जगत में फैलता, सिमटे केसर रंग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🍀🌺मैंने हर जगह ज़िक्र किया है तुम्हारा🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ धर्म चिंतन...【समरसता】
*Author प्रणय प्रभात*
करते रहे हो तुम शक हम पर
gurudeenverma198
* तिस लाग री *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज नहीं तो कल होगा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
कब बरसोगें
Swami Ganganiya
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
Trust
Manisha Manjari
यशोदा का नंदलाल बांसूरी वाला
VINOD KUMAR CHAUHAN
छुअन लम्हे भर की
Rashmi Sanjay
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पल में होता हादसा (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...