Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2024 · 1 min read

ख्वाब यहाँ पलतें है…

अब ख्वाब यहाँ पलते है,

अरमानों का आसमान उड़ता है …

समंदर की गहराई हँसीमें इनकी,

प्यार का भंडार खुलता है…

किरणों की तपिश बाहूँओंमे इनकी,

भगवान तो इनमें बसता है …

ये है तो जिंदगी है खुशी है,

कुर्बान इनपें हों जाऊ दिल कहता है…

लगे ना नजर किसीकी मेरे लाल तुझे,

सारी बलाएँ सरपें अपने दिल दुवाँओमें माँगता है…

नन्हे नन्हे हातों से जब पोछे ये आँसू,

हम सें अमीर ना कोई घमंड चढता है…

माफ करना मेरे इश्वर अगर तुझे बाद में याद करूँ,

आँखों में तो बस दिल का ये टुकड़ा बसता है…

अब ख्वाब यहाँ पलते है,

अरमानों का आसमान उड़ता है …

1 Like · 20 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
आज ही का वो दिन था....
आज ही का वो दिन था....
Srishty Bansal
यूँ ही नही लुभाता,
यूँ ही नही लुभाता,
हिमांशु Kulshrestha
"तू-तू मैं-मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
मीठा गान
मीठा गान
rekha mohan
मन तो करता है मनमानी
मन तो करता है मनमानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
रंगमंचक कलाकार सब दिन बनल छी, मुदा कखनो दर्शक बनबाक चेष्टा क
DrLakshman Jha Parimal
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पूरा कुनबा बैठता, खाते मिलकर धूप (कुंडलिया)
पूरा कुनबा बैठता, खाते मिलकर धूप (कुंडलिया)
Ravi Prakash
नाम लिख तो लिया
नाम लिख तो लिया
SHAMA PARVEEN
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
शिक़ायत नहीं है
शिक़ायत नहीं है
Monika Arora
*
*"ब्रम्हचारिणी माँ"*
Shashi kala vyas
"खूबसूरत आंखें आत्माओं के अंधेरों को रोक देती हैं"
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
gurudeenverma198
चीरता रहा
चीरता रहा
sushil sarna
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
Dr Archana Gupta
चुभती है रौशनी
चुभती है रौशनी
Dr fauzia Naseem shad
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आपके बाप-दादा क्या साथ ले गए, जो आप भी ले जाओगे। समय है सोच
आपके बाप-दादा क्या साथ ले गए, जो आप भी ले जाओगे। समय है सोच
*Author प्रणय प्रभात*
तेरी
तेरी
Naushaba Suriya
अमृत मयी गंगा जलधारा
अमृत मयी गंगा जलधारा
Ritu Asooja
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
पूर्वार्थ
22)”शुभ नवरात्रि”
22)”शुभ नवरात्रि”
Sapna Arora
3084.*पूर्णिका*
3084.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...