Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2016 · 1 min read

“खेलो चाहे कितना भी”

खेलो चाहे कितना भी मेरे जज़्बातों से,
हार नहीं मानूँगी अपमान भरी बातों से,
नोचो मेरे अरमानों की कोमल कलियाँ ,
तोडो मेरे अस्तित्व की सुंदर डालियां,
हर बार खडी रहूँगी उतनी ही ताकत से ,
खेलो चाहे कितना भी मेरे जज़्बातों से,
ना तौल सका कोई , ना तौल सकोगे तुम ,
जाओ इतनी भी तुम में सामर्थय नहीं ,
जो नाप सको मेरे संयम और बलिदानों को,
गुरुर तुम्हे है अपनी बौनी मानसिकता पर ,
अपनी छद्म -शक्ति का दम नित भरते रहो ,
ना टूटी पहले कभी, ना तोड़ पाओगे कभी,
हर बार खडी रहूँगी उतनी ही ताकत से,
खेलो चाहे कितना भी मेरे जज़्बातों से ||
…निधि…

Language: Hindi
1 Like · 432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
gurudeenverma198
"कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा" से भी बड़ा सवाल-
*Author प्रणय प्रभात*
*सवाल*
*सवाल*
Naushaba Suriya
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
कुछ तो लॉयर हैं चंडुल
AJAY AMITABH SUMAN
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
SHAMA PARVEEN
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
I'm always with you
I'm always with you
VINOD CHAUHAN
तंबाकू खाता रहा , जाने किस को कौन (कुंडलिया)
तंबाकू खाता रहा , जाने किस को कौन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
बिखरे सपने
बिखरे सपने
Kanchan Khanna
"ऐ मेरे बचपन तू सुन"
Dr. Kishan tandon kranti
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
Neeraj Agarwal
भारत माता की वंदना
भारत माता की वंदना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
The Sweet 16s
The Sweet 16s
Natasha Stephen
पथ सहज नहीं रणधीर
पथ सहज नहीं रणधीर
Shravan singh
मैं करता हुँ उस्सें पहल तो बात हो जाती है
मैं करता हुँ उस्सें पहल तो बात हो जाती है
Sonu sugandh
बीमार घर/ (नवगीत)
बीमार घर/ (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोहब्बत और मयकशी में
मोहब्बत और मयकशी में
शेखर सिंह
न्याय के लिए
न्याय के लिए
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
$úDhÁ MãÚ₹Yá
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आदिपुरुष समीक्षा
आदिपुरुष समीक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
Mamta Singh Devaa
*मित्र*
*मित्र*
Dr. Priya Gupta
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बिटिया और धरती
बिटिया और धरती
Surinder blackpen
प्रतिश्रुति
प्रतिश्रुति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कसौटी
कसौटी
Sanjay ' शून्य'
Loading...