Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2022 · 1 min read

ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar

आपका वादा हम ख़ूब समझते हैं
रब का इरादा हम ख़ूब समझते हैं

छोड़ देगा साथ वो भी मंजिल से पहले
जिसको हम अपना महबूब समझते हैं

जवाब उनको अब तो हम देने से रहें
वो हैं कि हम को मजबूर समझते हैं

साक़ी ने आज पूछा है उनसे उनका नाम
वो जो ख़ुदको बड़ा मशहूर समझते हैं

रखती हूँ फोन मुझको मम्मी बुला रही है
बहाना आपका ये हम ख़ूब समझते हैं

~विनीत सिंह
Vinit Singh Shayar

1 Like · 465 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"यायावरी" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बचपन
बचपन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
💐प्रेम कौतुक-380💐
💐प्रेम कौतुक-380💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चला आया घुमड़ सावन, नहीं आए मगर साजन।
चला आया घुमड़ सावन, नहीं आए मगर साजन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
दिल साफ होना चाहिए,
दिल साफ होना चाहिए,
Jay Dewangan
एक तरफ तो तुम
एक तरफ तो तुम
Dr Manju Saini
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
चलो मिलते हैं पहाड़ों में,एक खूबसूरत शाम से
पूर्वार्थ
दो साँसों के तीर पर,
दो साँसों के तीर पर,
sushil sarna
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
*Author प्रणय प्रभात*
मानवीय संवेदना बनी रहे
मानवीय संवेदना बनी रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अहंकार
अहंकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भूल जा वह जो कल किया
भूल जा वह जो कल किया
gurudeenverma198
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
आता सबको याद है, अपना सुखद अतीत।
आता सबको याद है, अपना सुखद अतीत।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गजल सी रचना
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
कोई मंत्री बन गया , डिब्बा कोई गोल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
2891.*पूर्णिका*
2891.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
Vishal babu (vishu)
चांद छुपा बादल में
चांद छुपा बादल में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
पितरों के सदसंकल्पों की पूर्ति ही श्राद्ध
कवि रमेशराज
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
दीप ज्योति जलती है जग उजियारा करती है
Umender kumar
घे वेध भविष्याचा ,
घे वेध भविष्याचा ,
Mr.Aksharjeet
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
संस्कृत के आँचल की बेटी
संस्कृत के आँचल की बेटी
Er.Navaneet R Shandily
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
क्षितिज के पार है मंजिल
क्षितिज के पार है मंजिल
Atul "Krishn"
युँ ही नहीं जिंदगी हर लम्हा अंदर से तोड़ रही,
युँ ही नहीं जिंदगी हर लम्हा अंदर से तोड़ रही,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
अक्सर लोग सोचते हैं,
अक्सर लोग सोचते हैं,
करन ''केसरा''
Loading...