May 12, 2022 · 1 min read

ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar

आपका वादा हम ख़ूब समझते हैं
रब का इरादा हम ख़ूब समझते हैं

छोड़ देगा साथ वो भी मंजिल से पहले
जिसको हम अपना महबूब समझते हैं

जवाब उनको अब तो हम देने से रहें
वो हैं कि हम को मजबूर समझते हैं

साक़ी ने आज पूछा है उनसे उनका नाम
वो जो ख़ुदको बड़ा मशहूर समझते हैं

रखती हूँ फोन मुझको मम्मी बुला रही है
बहाना आपका ये हम ख़ूब समझते हैं

~विनीत सिंह
Vinit Singh Shayar

19 Views
You may also like:
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
मेरे पापा।
Taj Mohammad
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सौगंध
Shriyansh Gupta
इंसानियत बनाती है
gurudeenverma198
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
वो
Shyam Sundar Subramanian
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
# हे राम ...
Chinta netam मन
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पापा वो बचपन के
Khushboo Khatoon
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
ग़ज़ल
kamal purohit
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
पिता
Keshi Gupta
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H.
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
तपिश
SEEMA SHARMA
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
**किताब**
Dr. Alpa H.
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
Loading...