Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2022 · 1 min read

ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar

आपका वादा हम ख़ूब समझते हैं
रब का इरादा हम ख़ूब समझते हैं

छोड़ देगा साथ वो भी मंजिल से पहले
जिसको हम अपना महबूब समझते हैं

जवाब उनको अब तो हम देने से रहें
वो हैं कि हम को मजबूर समझते हैं

साक़ी ने आज पूछा है उनसे उनका नाम
वो जो ख़ुदको बड़ा मशहूर समझते हैं

रखती हूँ फोन मुझको मम्मी बुला रही है
बहाना आपका ये हम ख़ूब समझते हैं

~विनीत सिंह
Vinit Singh Shayar

1 Like · 229 Views
You may also like:
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
शुभ मुहूर्त
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ मुख्तलिफ सा लिखूं।
Taj Mohammad
वही आंखों का ख़्वाब होता है
Dr fauzia Naseem shad
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
यह तस्वीर कुछ बोलता है
राकेश कुमार राठौर
देखते देखते
shabina. Naaz
ज्ञान की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
- साहित्य मेरी जान -
bharat gehlot
क्रांति के रागिनी
Shekhar Chandra Mitra
उठो युवा तुम उठो ऐसे/Uthao youa tum uthao aise
Shivraj Anand
एक तरफा प्यार
Nishant prakhar
“ मित्रताक अमिट छाप “
DrLakshman Jha Parimal
पुनर्विवाह
Anamika Singh
बेटी से ही संसार
Prakash juyal 'मुकेश'
हम-सफ़र
Shyam Sundar Subramanian
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
Ravi Prakash
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
शहीदों के नाम
Sahil
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
नेता और मुहावरा
सूर्यकांत द्विवेदी
ख़्वाहिश है की फिर तुझसे मुलाक़ात ना हो, राहें हमारी...
Manisha Manjari
** मेरे खुदा **
Swami Ganganiya
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
समय के उजालो...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
✍️कमाल ये है...✍️
'अशांत' शेखर
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
आने वाली नस्लों को बस यही बता देना।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...