Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2023 · 1 min read

खूब उड़ रही तितलियां

** गीतिका **
~~
खूब उड़ रही तितलियां, हवा बह रही मंद।
और इकट्ठा कर रही, फूलों से मकरंद।

फूलों पर मंडरा रहे, देखो भँवरे खूब।
और उठाते जा रहे, जीवन का आनंद।

नैसर्गिक लगते बहुत, फूलों के सब रंग।
पंखुड़ियां खुलने लगी, कल तक थी जो बंद।

आज समय की मांग है, जागे हर इन्सान।
करे आवाज प्रकृति के, हित में सदा बुलंद।

कौन किसे अच्छा लगे, अलग सभी के शौक।
सहसा जो मन जीत ले, होती वही पसंद।

धरती नभ जल को सदा, रखें प्रदूषण मुक्त।
पुण्य धरा के साथ अब, खत्म करें हर द्वंद्व।

सबके मन को मोहती, फैली खूब सुगंध।
अधरों पर आने लगे, स्नेह भरे प्रिय छंद।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मण्डी (हिमाचल प्रदेश)

361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
स्वयं को तुम सम्मान दो
स्वयं को तुम सम्मान दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
शोभा कुमारी
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
दीया और बाती
दीया और बाती
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
समय और मौसम सदा ही बदलते रहते हैं।इसलिए स्वयं को भी बदलने की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
विषय सूची
विषय सूची
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
पराया हुआ मायका
पराया हुआ मायका
विक्रम कुमार
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
पर्यावरण में मचती ये हलचल
पर्यावरण में मचती ये हलचल
Buddha Prakash
अपनी-अपनी विवशता
अपनी-अपनी विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कागज की कश्ती
कागज की कश्ती
Ritu Asooja
सताया ना कर ये जिंदगी
सताया ना कर ये जिंदगी
Rituraj shivem verma
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*साप्ताहिक अखबार (कुंडलिया)*
*साप्ताहिक अखबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पल का मलाल
पल का मलाल
Punam Pande
Badalo ki chirti hui meri khahish
Badalo ki chirti hui meri khahish
Sakshi Tripathi
मोहब्बत में इतना सताया है तूने।
मोहब्बत में इतना सताया है तूने।
Phool gufran
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
कहो जय भीम
कहो जय भीम
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
जीवन
जीवन
Monika Verma
बहुत कुछ बदल गया है
बहुत कुछ बदल गया है
Davina Amar Thakral
मेरे बुद्ध महान !
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
मतदान कीजिए (व्यंग्य)
मतदान कीजिए (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
विश्वास किसी पर इतना करो
विश्वास किसी पर इतना करो
नेताम आर सी
नैया फसी मैया है बीच भवर
नैया फसी मैया है बीच भवर
Basant Bhagawan Roy
"लाभ का लोभ"
पंकज कुमार कर्ण
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
मैं 🦾गौरव हूं देश 🇮🇳🇮🇳🇮🇳का
डॉ० रोहित कौशिक
" कृषक की व्यथा "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...