Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 2 min read

*खुशियों की सौगात*

DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुशियों की सौगात

ऑथर – डॉ अरुण कुमार शास्त्री
टॉपिक – क्या खोया क्या पाया 2023 में
शीर्षक – खुशियों की सौगात
भाषा – हिन्दी
विधा – स्वछंद काव्य

नई – नई शुरुआत थी
बाईस के जाने से मन में अकुलाहट थी
लेकिन तेईस के आगमन से
तन मन में गर्माहट थी
बाईस में जो न कर पाया था
सोचा तेईस में पूरा कर लूँगा
कई अधूरे काव्य ग्रंथ थे
उन सब से अपना मन भर लूँगा
कैसे कैसे ख्वाब अधूरे चाहत के संग रह गए
बाईस जैसे तेईस निकला
जैसे फिसली रेत भाव से बह गए विचार
कण कण निकला
पल पल निकला
सपन अधूरे रह गए
बीत रही है उम्र हमारी
हम बैठे ही रह गए
जनवरी आई और चली गई
ठंढ के संग वो कोहरा लाई
निकल सके न रजाई से राजा
हाँथ सेकते रह गए
बाईस में जो न कर पाया था
सोचा तेईस में पूरा कर लूँगा
कई अधूरे काव्य ग्रंथ थे
उन सब से अपना मन भर लूँगा
कैसे कैसे ख्वाब अधूरे
चाहत के संग रह गए
बाईस जैसे तेईस निकला
जैसे फिसली रेत से बह गए
धीरे – धीरे वर्ष सुहाना
खाना पीना और सो जाना
नियम लिखे कैलेंडर पर थे
लिखे ही तो रह गए
एक दिन हमको गुस्सा आया
अपने आलसपन पे शरमाया
कर के कठोर मन को हमने फिर
राम देव का योग ध्यान अपनाया
पहन के खेल के जूते हम भी
दौड़ लगाने निकल गए
सच पूंछों तो उस दिन से हम
चकित चतुर स्वस्थ स्वाबलम्बी हो गए
बाईस जैसे तेईस निकला
जैसे फिसली रेत हम भी बह गए
कण कण निकला पल पल निकला
सपन अधूरे रह गए
बीत रही थी उम्र हमारी
हम बैठे ही रह गए

Language: Hindi
56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
सभी मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
सभी मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।
surenderpal vaidya
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
खुद की तलाश
खुद की तलाश
Madhavi Srivastava
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
सबका वह शिकार है, सब उसके ही शिकार हैं…
Anand Kumar
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इन रावणों को कौन मारेगा?
इन रावणों को कौन मारेगा?
कवि रमेशराज
*मतलब सर्वोपरि हुआ, स्वार्थसिद्धि बस काम(कुंडलिया)*
*मतलब सर्वोपरि हुआ, स्वार्थसिद्धि बस काम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अंधेरे का डर
अंधेरे का डर
ruby kumari
■ कड़वा सच...
■ कड़वा सच...
*Author प्रणय प्रभात*
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
Subhash Singhai
चलो स्कूल
चलो स्कूल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रयास जारी रखें
प्रयास जारी रखें
Mahender Singh
सुशील कुमार मोदी जी को विनम्र श्रद्धांजलि
सुशील कुमार मोदी जी को विनम्र श्रद्धांजलि
विक्रम कुमार
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Sanjay ' शून्य'
शिक्षित लोग
शिक्षित लोग
Raju Gajbhiye
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
SHELTER OF LIFE
SHELTER OF LIFE
Awadhesh Kumar Singh
शहीदों लाल सलाम
शहीदों लाल सलाम
नेताम आर सी
मातृ रूप
मातृ रूप
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
आँगन की दीवारों से ( समीक्षा )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
पवनसुत
पवनसुत
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इश्क की खुमार
इश्क की खुमार
Pratibha Pandey
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
डर
डर
Sonam Puneet Dubey
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
Dr MusafiR BaithA
Loading...