Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2017 · 1 min read

खुशबू के लिए, गुलाब से बढ़कर कौन है ?

खुशबू के लिए, गुलाब से बढ़कर कौन है ?
मेरी नजर में आप से बढ़कर भला कौन है ?
सौंप दी जिन्दगी की डोर मैंने तुम्हारे हाथ
इस बात पर अब और कहने वाली बात, कौन है ??

चाहे जिस हाल में रखना, बस अपना बना के रखना
चाहने को दुनिया अब चाहे तुम को, यह जान के रखना
मेरे जीवन की हर सांस, मेरे हर जज्बात अब तुम्हारे हैं
भला अब कहो, मुझ से यह हक़ छिनने वाला, कौन है ??

तन सौंपा, मैने अपना मन सौंपा, मुझे सहारा मिल गया
मेरी भंवर में फंसी हुई कश्ती, को अब तुम्हारा सहारा मिल गया
जब तक न टूटेगी मेरी यह सांस, और मेरे दिल के मालिक
तक तक, इस डोर को तोडने वाला.बता, अब कौन है ??

अजीत तलवार
मेरठ

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
गुरु अंगद देव
गुरु अंगद देव
कवि रमेशराज
"खाली हाथ"
Er. Sanjay Shrivastava
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
सिर्फ दरवाजे पे शुभ लाभ,
नेताम आर सी
आपसा हम जो दिल
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
नई उम्मीद
नई उम्मीद
Pratibha Pandey
सियासत हो
सियासत हो
Vishal babu (vishu)
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
कवि दीपक बवेजा
*गर्मी में शादी (बाल कविता)*
*गर्मी में शादी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
2283.🌷खून बोलता है 🌷
2283.🌷खून बोलता है 🌷
Dr.Khedu Bharti
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Seema Varma
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
Manju sagar
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
हे राघव अभिनन्दन है
हे राघव अभिनन्दन है
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
प्रथम शैलपुत्री
प्रथम शैलपुत्री
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेला दिलों ❤️ का
मेला दिलों ❤️ का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
(23) कुछ नीति वचन
(23) कुछ नीति वचन
Kishore Nigam
* खूब कीजिए प्यार *
* खूब कीजिए प्यार *
surenderpal vaidya
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
शिव का सरासन  तोड़  रक्षक हैं  बने  श्रित मान की।
शिव का सरासन तोड़ रक्षक हैं बने श्रित मान की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जरुरी नहीं खोखले लफ्ज़ो से सच साबित हो
जरुरी नहीं खोखले लफ्ज़ो से सच साबित हो
'अशांत' शेखर
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
🙅पूर्वानुमान🙅
🙅पूर्वानुमान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
लोग मुझे अक्सर अजीज समझ लेते हैं
लोग मुझे अक्सर अजीज समझ लेते हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐प्रेम कौतुक-272💐
💐प्रेम कौतुक-272💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
वो कहती हैं ग़ैर हों तुम अब! हम तुमसे प्यार नहीं करते
The_dk_poetry
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
Loading...