Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

खुली आंखें जब भी,

खुली आंखें जब भी,
कोई ख़्वाब देख कर,
एक शख्स खड़ा था सिरहाने,
उन्हें साकार करने को।

।।मेरे पिता।।

245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिस्सा,,,,
हिस्सा,,,,
Happy sunshine Soni
मैं पीपल का पेड़
मैं पीपल का पेड़
VINOD CHAUHAN
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
आर एस आघात
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
manjula chauhan
🌸 आशा का दीप 🌸
🌸 आशा का दीप 🌸
Mahima shukla
*डॉंटा जाता शिष्य जो, बन जाता विद्वान (कुंडलिया)*
*डॉंटा जाता शिष्य जो, बन जाता विद्वान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मोहन कृष्ण मुरारी
मोहन कृष्ण मुरारी
Mamta Rani
उतार देती हैं
उतार देती हैं
Dr fauzia Naseem shad
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
चीत्कार रही मानवता,मानव हत्याएं हैं जारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
आनंद प्रवीण
दिल पर दस्तक
दिल पर दस्तक
Surinder blackpen
#व्यंग्य
#व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
ओ मैना चली जा चली जा
ओ मैना चली जा चली जा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*परियों से  भी प्यारी बेटी*
*परियों से भी प्यारी बेटी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
Aman Kumar Holy
मेरा गांव
मेरा गांव
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
The stars are waiting for this adorable day.
The stars are waiting for this adorable day.
Sakshi Tripathi
मेरी  हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
मेरी हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
साधना की मन सुहानी भोर से
साधना की मन सुहानी भोर से
OM PRAKASH MEENA
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Gurdeep Saggu
फीका त्योहार !
फीका त्योहार !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"" *जब तुम हमें मिले* ""
सुनीलानंद महंत
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
वादा करती हूं मै भी साथ रहने का
Ram Krishan Rastogi
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
Loading...