Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2023 · 1 min read

खुला आसमान

चाहिए मुझे मेरा खुला आसमान।
एक लम्बी मुझे भरनी है उड़ान ।

मत मानो देवी ,न मानो जननी
इज्ज़त ही‌ हो बस मेरी पहचान।

क्यों बात बात पर ताने हो कसते
दो विद्या का गहना ,न रहूं नादान।

मुझे भी उड़ना है पंख खोलने दो
मेरी भी इच्छा,पूरी कर भगवान ।

है लड़ना मुझे ,मेरे ही अपनों से
चाहे वो ले ले , आखिर मेरी जान।

अबला ,बेबस ,कर्मजली ,नहीं अब
ज़रा गौर से देखो लगा कर ध्यान।

मेरा हक मुझे , लेना है छीन कर
मेरी बातों से क्यों ,आप हैं हैरान।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
1 Like · 206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
"सूरत और सीरत"
Dr. Kishan tandon kranti
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
SPK Sachin Lodhi
मानवता
मानवता
Rahul Singh
■ कटाक्ष...
■ कटाक्ष...
*प्रणय प्रभात*
यूपी में कुछ पहले और दूसरे चरण में संतरो की हालात ओर खराब हो
यूपी में कुछ पहले और दूसरे चरण में संतरो की हालात ओर खराब हो
शेखर सिंह
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
*थर्मस (बाल कविता)*
*थर्मस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
कवि रमेशराज
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
2802. *पूर्णिका*
2802. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
Manoj Mahato
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
gurudeenverma198
कर गमलो से शोभित जिसका
कर गमलो से शोभित जिसका
प्रेमदास वसु सुरेखा
राह हमारे विद्यालय की
राह हमारे विद्यालय की
bhandari lokesh
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
क्यो नकाब लगाती हो
क्यो नकाब लगाती हो
भरत कुमार सोलंकी
कद्र माँ-बाप की जिसके आशियाने में नहीं
कद्र माँ-बाप की जिसके आशियाने में नहीं
VINOD CHAUHAN
वक्त
वक्त
Dinesh Kumar Gangwar
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
जिंदगी में रंग भरना आ गया
जिंदगी में रंग भरना आ गया
Surinder blackpen
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
आर.एस. 'प्रीतम'
चली जाऊं जब मैं इस जहां से.....
चली जाऊं जब मैं इस जहां से.....
Santosh Soni
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
गुत्थियों का हल आसान नही .....
गुत्थियों का हल आसान नही .....
Rohit yadav
खयालों ख्वाब पर कब्जा मुझे अच्छा नहीं लगता
खयालों ख्वाब पर कब्जा मुझे अच्छा नहीं लगता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मुक्तक
मुक्तक
Neelofar Khan
ऑंधियों का दौर
ऑंधियों का दौर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
गमछा जरूरी हs, जब गर्द होला
गमछा जरूरी हs, जब गर्द होला
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
पर्यावरण-संरक्षण
पर्यावरण-संरक्षण
Kanchan Khanna
Loading...