Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 2 min read

खुद में अब आप दिखाई देती है

मां इस एक वाक्य में हमारी पूरी दुनिया समायी है
मां को कैसे व्यक्त करना जिसने हमें दुनिया दिखाई है..
एक कविता मैं प्रस्तुत कर रही हूं,यह सिर्फ मेरी ,आपकी नहीं अमूमन हर बेटी की यही कहानी है
जैसे जैसे अनुभव बढ़ता है,समझ आनें लगता है कि
सचमुच मैं भी मां जैसी ही हूं..

तमाम उम्र नख़रें दिखाने के बाद
जरूरत से ज्यादा अकड़ने के बाद
मायके से ससुराल विदा होने के बाद
आंखों से आंसू बहाने के बाद
ससुराल को अपना घर बनाने के बाद
बहूरानी से मां बन जाने के बाद
माथें पर थोड़ी झुर्रियां आनें के बाद
प्यार, दुलार, ममता लुटाने के बाद
आंखों को थोड़ा झुकानें के बाद
पहले नादान होने के बाद
फिर नादानी खोने के बाद
आपने जो तब कहा था
वह मुझे आज सुनाई देती है
मुझे खुद में अपनी मां दिखाई देती है ।।

मां आपकी वह कमियां
जिनसे मैं तब शर्माती थी
धीरे-धीरे गौर किया तो
इन सबको खुद में पाती हूं
सुपर मॉम से मॉम हुई थी
आप पर मैं तब झल्लाई थी
सच कहती हूं सुपर मॉम तो
मैं भी कभी नहीं बन पाई
जाने मेरी कितनी उम्मीदें थी
आपसे जो पूरी ना हो पाई थी
कसम लगे मुझे मेरे बच्चों की
मुझसे भी ना पूरी हो पाई
सच कहा था अपनें
अनुभव सब सीखा देती है
मुझे खुद में

कभी -कभी आईने के सामने
जब मैं गोल बिंदी लगाती हूं
उस चटक लाल बिंदी में मैं
तुझको ही तो सामने पाती हूं
काश ! यह सब जब आप यही थी
आप से सीधे सब कह पाती
काश! तेरे आंचल में छुप कर
फिर वही लाड़ जतला पाती
सच कहते हैं लोग भी देखो
वक्त सब सीखला ही देता है
आपने जो उस वक्त कहा था
मां वो सब आज सुनाई देती है
सच मानों मां मुझे खुद में
अब आप दिखाई देती है ।
——————————–
सुनीता जौहरी
वाराणसी
विनीत पंछी से प्रेरित एक कविता

3 Likes · 2 Comments · 212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
Manoj Mahato
"लावा सी"
Dr. Kishan tandon kranti
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
कुदरत ने क्या ख़ूब करिश्मा दिखाया है,
कुदरत ने क्या ख़ूब करिश्मा दिखाया है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तू मेरे सपनो का राजा तू मेरी दिल जान है
तू मेरे सपनो का राजा तू मेरी दिल जान है
कृष्णकांत गुर्जर
*मैं भी कवि*
*मैं भी कवि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धोखा
धोखा
Paras Nath Jha
कैसी लगी है होड़
कैसी लगी है होड़
Sûrëkhâ
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Ritu Asooja
प्राण दंडक छंद
प्राण दंडक छंद
Sushila joshi
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
Manisha Manjari
प्यारी तितली
प्यारी तितली
Dr Archana Gupta
#बाक़ी_सब_बेकार 😊😊
#बाक़ी_सब_बेकार 😊😊
*प्रणय प्रभात*
*साठ बरस के हो गए, हुए सीनियर आज (हास्य कुंडलिया)*
*साठ बरस के हो गए, हुए सीनियर आज (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कब करोगे जीवन का प्रारंभ???
कब करोगे जीवन का प्रारंभ???
Sonam Puneet Dubey
घर हो तो ऐसा
घर हो तो ऐसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
कभी कभी खामोशी भी बहुत सवालों का जवाब होती हे !
कभी कभी खामोशी भी बहुत सवालों का जवाब होती हे !
Ranjeet kumar patre
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
गज़ल
गज़ल
Jai Prakash Srivastav
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
ले कर मुझे
ले कर मुझे
हिमांशु Kulshrestha
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
विषधर
विषधर
Rajesh
तन तो केवल एक है,
तन तो केवल एक है,
sushil sarna
कलयुग की छाया में,
कलयुग की छाया में,
Niharika Verma
Loading...