Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

“खुदा से”

“खुदा से”
करनी है खुदा से
फकत एक गुजारिश,
तेरे प्यार के सिवा
कोई बन्दगी ना मिले..

2 Likes · 2 Comments · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
बेटियाँ
बेटियाँ
Mamta Rani
सियासत में
सियासत में
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
Rajesh Kumar Arjun
"दीदार"
Dr. Kishan tandon kranti
2640.पूर्णिका
2640.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
Rj Anand Prajapati
रमजान में....
रमजान में....
Satish Srijan
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Kashtu Chand tu aur mai Sitara hota ,
Sampada
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🙅दोहा🙅
🙅दोहा🙅
*Author प्रणय प्रभात*
संघर्ष
संघर्ष
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
How do you want to be loved?
How do you want to be loved?
पूर्वार्थ
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
आज बाजार बन्द है
आज बाजार बन्द है
gurudeenverma198
हमने तुमको दिल दिया...
हमने तुमको दिल दिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
आज खुश हे तु इतना, तेरी खुशियों में
Swami Ganganiya
💐प्रेम कौतुक-208💐
💐प्रेम कौतुक-208💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
दो पंक्तियां
दो पंक्तियां
Vivek saswat Shukla
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
*साथ तुम्हारा मिला प्रिये तो, रामायण का पाठ कर लिया (हिंदी ग
*साथ तुम्हारा मिला प्रिये तो, रामायण का पाठ कर लिया (हिंदी ग
Ravi Prakash
रात के अंधेरे के निकलते ही मशहूर हो जाऊंगा मैं,
रात के अंधेरे के निकलते ही मशहूर हो जाऊंगा मैं,
कवि दीपक बवेजा
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
कवि रमेशराज
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
कितनी खास हो तुम
कितनी खास हो तुम
आकांक्षा राय
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
*अज्ञानी की कलम  *शूल_पर_गीत*
*अज्ञानी की कलम *शूल_पर_गीत*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
Loading...