Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

खुदारा मुझे भी दुआ दीजिए।

गज़ल

122…..122….122…..12
खुदारा मुझे भी दुआ दीजिए।
हुई है खता तो सजा दीजिए।

न पहला सबक प्यार का है पढ़ा,
मुहब्बत है क्या ये बता दीजिए।

धरम जाति बंधन हैं बाधा बनें,
दीवारें ये सारी गिरा दीजिए।

ये दिल आशिकी में ही बीमार है,
इसे इश्के मरहम लगा दीजिए।

न रोजी न रोजगार तुम दे सके,
मुझे साफ़ सुथरी हवा दीजिए।

मिलें हिंदू मुस्लिम इसाई व सिख,
रहें साथ मिलकर दुआ दीजिए।

मैं प्रेमी हूॅं कैदी, तेरे इश्क में,
जो हो फैसला वो सुना दीजिए।

……..✍️ सत्य कुमार प्रेमी

131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सत्य कुमार प्रेमी
View all
You may also like:
*खिले जब फूल दो भू पर, मधुर यह प्यार रचते हैं (मुक्तक)*
*खिले जब फूल दो भू पर, मधुर यह प्यार रचते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
जन कल्याण कारिणी
जन कल्याण कारिणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
चिल्लाने के लिए ताकत की जरूरत नहीं पड़ती,
शेखर सिंह
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*अग्निवीर*
*अग्निवीर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राजस्थान
राजस्थान
Anil chobisa
ईमानदारी
ईमानदारी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पीपल बाबा बूड़ा बरगद
पीपल बाबा बूड़ा बरगद
Dr.Pratibha Prakash
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अजीब सी चुभन है दिल में
अजीब सी चुभन है दिल में
हिमांशु Kulshrestha
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
Keshav kishor Kumar
"प्यार"
Dr. Kishan tandon kranti
!! होली के दिन !!
!! होली के दिन !!
Chunnu Lal Gupta
" आज चाँदनी मुस्काई "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
■ छठ महापर्व...।।
■ छठ महापर्व...।।
*प्रणय प्रभात*
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
दरिया का किनारा हूं,
दरिया का किनारा हूं,
Sanjay ' शून्य'
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
Paras Nath Jha
तबीयत मचल गई
तबीयत मचल गई
Surinder blackpen
3423⚘ *पूर्णिका* ⚘
3423⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मेरे सपने
मेरे सपने
Saraswati Bajpai
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
सबसे ऊंचा हिन्द देश का
surenderpal vaidya
Loading...