Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2023 · 1 min read

खालीपन – क्या करूँ ?

खालीपन – क्या करूँ ?
विधा – स्वच्छंद – अतुकांत कविता
लेखक – डॉ अरुण कुमार शास्त्री – दिल्ली

क्या करूँ कैसे भरूँ ?
जो खालीपन तुम दे गये ।

नींद चुराई , चैन चुराया ,
और बैचेनी दे गये ।

प्यार किया था , या था नाटक ,
सूनी रातें दे गये ।

दूर हुए हो जबसे साजन ,
खालीपन ही दे गये ।

कह के जाते , कोई शिकायत ,
शिकवा करते , मुझसे लड़ते ,

कमी रही जो मेरे नेह में ,
हम भरसक उसको पूरा करते ।

लेकिन तुम तो निष्ठुर निकले ,
का – पुरुष से भी गये गुजरे निकले ।

बिना बजह के हम से रूठे ,
बिना गलती के दोष दिए बिन ,
हाय राम तुम खोकले निकले ।

तोड़ भरोसा मेरे दिल का ,
अनजानों से चले गये ,
दर्द दे गये पीर दे गये , ठीक हो सके न
ऐसा हम को जख्म दे गये ।

नींद चुराई , चैन चुराया ,
और बैचेनी दे गये ,

दूर हुए हो जबसे साजन ,
तबसे ही खालीपन दे गये ।

प्यार किया था , या था नाटक ,
सूनी मुझको रात दे गये ।

अब न होगा प्यार किसी से ।
कोई न होगा साथी मेरा ।

टूटे दिल से प्यार करूँ क्या ?
अब ऐसा व्यवहार न होगा ।

सामाजिक व्यवहार न होगा ,
मुझसे लोकाचार न होगा ।

मैत्री का हाँथ बढ़ेगा जो भी अबसे ,
बिल्कुल भी स्वीकार न होगा ।

खालीपन ही अब तो मेरा ,
सच्चा मैत्रिक आचरण होगा ।

दर्द रहेगा हरदम दिल में ,
पर आँखों से प्रगट न होगा ।

जिंदा हूँ पर जीवित जैसा , जीवन जीना
मुझमें यारा , किंचित भी आसान न होगा ।

Language: Hindi
144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
स्टेटस अपडेट देखकर फोन धारक की वैचारिक, व्यवहारिक, मानसिक और
स्टेटस अपडेट देखकर फोन धारक की वैचारिक, व्यवहारिक, मानसिक और
विमला महरिया मौज
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेबसी (शक्ति छन्द)
बेबसी (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
मक़रूज़ हूँ मैं
मक़रूज़ हूँ मैं
Satish Srijan
लेखक कौन ?
लेखक कौन ?
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
टूटी हुई उम्मीद की सदाकत बोल देती है.....
टूटी हुई उम्मीद की सदाकत बोल देती है.....
कवि दीपक बवेजा
शहीद की पत्नी
शहीद की पत्नी
नन्दलाल सुथार "राही"
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
रेखा कापसे
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
करें आराधना मां की, आ गए नौ दिन शक्ति के।
करें आराधना मां की, आ गए नौ दिन शक्ति के।
umesh mehra
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
2794. *पूर्णिका*
2794. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-345💐
💐प्रेम कौतुक-345💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"आत्मावलोकन"
Dr. Kishan tandon kranti
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
Rituraj shivem verma
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
तनिक लगे न दिमाग़ पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जल खारा सागर का
जल खारा सागर का
Dr Nisha nandini Bhartiya
" मैं सिंह की दहाड़ हूँ। "
Saransh Singh 'Priyam'
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
Ravi Betulwala
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
#शुभ_दीपोत्सव
#शुभ_दीपोत्सव
*Author प्रणय प्रभात*
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यह रंगीन मतलबी दुनियां
यह रंगीन मतलबी दुनियां
कार्तिक नितिन शर्मा
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
हक़ीक़त का
हक़ीक़त का
Dr fauzia Naseem shad
दोहा-विद्यालय
दोहा-विद्यालय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
Vicky Purohit
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...