Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Apr 2023 · 1 min read

खाता काल मनुष्य को, बिछड़े मन के मीत (कुंडलिया)

खाता काल मनुष्य को, बिछड़े मन के मीत (कुंडलिया)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
खाता काल मनुष्य को ,बिछड़े मन के मीत
राहों में जो जन मिले , होते कालातीत
होते कालातीत , काल का चाबुक चलता
क्षण में दृश्य अतीत ,हाथ मानव फिर मलता
कहते रवि कविराय , सताने निर्मम आता
पेटू यह यमराज , अनवरत दिखता खाता
——————————————————
कालातीत = जिसका समय बीत गया हो
——————————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर( उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976154 51

255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
*प्रेम भेजा  फ्राई है*
*प्रेम भेजा फ्राई है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"चालाक आदमी की दास्तान"
Pushpraj Anant
प्रेम जीवन में सार
प्रेम जीवन में सार
Dr.sima
गुरु की महिमा
गुरु की महिमा
Dr.Priya Soni Khare
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बैठ गए
बैठ गए
विजय कुमार नामदेव
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
शेखर सिंह
चंद तारे
चंद तारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
कौआ और कोयल ( दोस्ती )
VINOD CHAUHAN
कविता
कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"परख"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम अब खंडित रहेगा।
प्रेम अब खंडित रहेगा।
Shubham Anand Manmeet
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*गणतंत्र (कुंडलिया)*
*गणतंत्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Sushil Pandey
एक प्रार्थना
एक प्रार्थना
Bindesh kumar jha
गोविंदा श्याम गोपाला
गोविंदा श्याम गोपाला
Bodhisatva kastooriya
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
आरजू ओ का कारवां गुजरा।
Sahil Ahmad
3509.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3509.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
"आपके पास यदि धार्मिक अंधविश्वास के विरुद्ध रचनाएँ या विचार
Dr MusafiR BaithA
वहाॅं कभी मत जाईये
वहाॅं कभी मत जाईये
Paras Nath Jha
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
जिंदगी बहुत प्यार, करता हूँ मैं तुमको
जिंदगी बहुत प्यार, करता हूँ मैं तुमको
gurudeenverma198
कुछ समझ में ही नहीं आता कि मैं अब क्या करूँ ।
कुछ समझ में ही नहीं आता कि मैं अब क्या करूँ ।
Neelam Sharma
मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
Taj Mohammad
"चित्तू चींटा कहे पुकार।
*प्रणय प्रभात*
Loading...