Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

खाँसी

खाँसी
वास्तव में
खाँसी नहीं है,
प्रतीपगमन है
भावनाओं का ।
यानि – सिर्फ़
आगे बढ़ना ,
या सिर्फ़
पीछे मुड़ना ।
खाँसी,खाँसी नहीं
प्रकार है , जैसे-
मेरी खाँसी या
उनकी खाँसी ।
लेकिन-
उनकी खाँसी,
खाँसी नहीं,
संकेत है,किसी
बलबे का,या
किसी झगड़े का ।
वो जब खाँसते हैं,
तो चौकन्ना
हो जाता है मीडिया ।
अख़वार
प्रथम पृष्ठ का
अर्द्धभाग
सुरक्षित रखता है,
उनकी खाँसी को
दर्ज़ा देने
साहित्य का ।
वो देखो !
ज़रा गौर से देखो !!
उस महिला के
रंगीन वस्त्र ,
श्वेत हो गए हैं,
यक-ब-यक ,
उनके खाँसने के बाद ।
लेकिन-
मेरी खाँसी,
मेरी खाँसी महज़
खाँसी ही है , जो
उदर के
वक्राकार मार्ग में
सरल रेखा बनाती हुई
मुँह से निकलकर
आकाश की ओर
द्वंद्वयुक्त किन्तु
स्वच्छंद , चली जाती है ,
चली जाती है,
अपने सूरज
की तलाश़ में ।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी।

कवि एवं शिक्षक।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 1290 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
ओ मेरे गणपति महेश
ओ मेरे गणपति महेश
Swami Ganganiya
हम देखते ही रह गये
हम देखते ही रह गये
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
पल भर की खुशी में गम
पल भर की खुशी में गम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चरित्र
चरित्र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की धर्मनिरपेक्षता"
Pravesh Shinde
ये जो लोग दावे करते हैं न
ये जो लोग दावे करते हैं न
ruby kumari
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
Keshav kishor Kumar
दिल में भी इत्मिनान
दिल में भी इत्मिनान
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
अनिल कुमार
कल चाँद की आँखों से तन्हा अश्क़ निकल रहा था
कल चाँद की आँखों से तन्हा अश्क़ निकल रहा था
'अशांत' शेखर
जनक दुलारी
जनक दुलारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
" मैं सिंह की दहाड़ हूँ। "
Saransh Singh 'Priyam'
कहीं दूर चले आए हैं घर से
कहीं दूर चले आए हैं घर से
पूर्वार्थ
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी गुड़िया
मेरी गुड़िया
Kanchan Khanna
इतनें रंगो के लोग हो गये के
इतनें रंगो के लोग हो गये के
Sonu sugandh
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
कवि दीपक बवेजा
थक गये है हम......ख़ुद से
थक गये है हम......ख़ुद से
shabina. Naaz
हिन्दी दोहा बिषय- सत्य
हिन्दी दोहा बिषय- सत्य
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
आर.एस. 'प्रीतम'
कृषि पर्व वैशाखी....
कृषि पर्व वैशाखी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
gurudeenverma198
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
आज वो भी भारत माता की जय बोलेंगे,
Minakshi
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
जीवन के कुरुक्षेत्र में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुजरे ज़माने वाले तुझे मैं क्या नाम दूं।
गुजरे ज़माने वाले तुझे मैं क्या नाम दूं।
Taj Mohammad
🌺प्रेम कौतुक-195🌺
🌺प्रेम कौतुक-195🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*राममय हुई रामपुर रजा लाइब्रेरी*
*राममय हुई रामपुर रजा लाइब्रेरी*
Ravi Prakash
Loading...