Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2023 · 1 min read

ख़्याल

मुझे एक ख़्याल बनाकर
बेख्याली में ही सही
अपने ख़्यालों में रख लो ना
इसरार ही समझ लो ना ।

तस्वीर कुछ बोलती नहीं तुम्हारी
पर नजर मेरी
कुछ बयां तो करती है
अनकहा ही समझ लो ना ।

शोर मचाती खामोशियां अब
ठहर सी गई हैं,
अपनी तस्वीर में इन्हें
समा लो ना।

एक ख़्याल बनाओ मुझे
या अपनी ठहरी नजर में
एक ख्वाब की तरह
बसा लो ना ।

बेरंग बेनूर से
इस तन्हा जहान में
तुम्हारी चाहत
दर्द सी ज़िंदा है,

उड़ जाऊं तुम्हारी रूह
के संग आसमान में
जहां रूहानियत है बस
ना एक भी परिंदा है।

ना कोई ख्वाहिश ना तमन्ना
ना आरज़ू बची है यारब
मतलबी इस दुनिया में
गुंजाइश नहीं जुस्तजू की अब।

भटकती निगाहों को
कोई ठौर तो मिले
उसी जगह जहां चले गए हो तुम
मुझे भी वहीं बुला लो ना।

और मुद्दत हुई रूह से
सवाल करते हुए अब
पर जवाब न मिला मुझे
इकरार ही समझ लूं क्या?

डॉ सीमा ©

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 422 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Seema Varma
View all
You may also like:
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
असली दर्द का एहसास तब होता है जब अपनी हड्डियों में दर्द होता
प्रेमदास वसु सुरेखा
ज्ञान-दीपक
ज्ञान-दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मेरा भारत देश
मेरा भारत देश
Shriyansh Gupta
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
तेरी यादें
तेरी यादें
Neeraj Agarwal
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
शांतिवार्ता
शांतिवार्ता
Prakash Chandra
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
उसकी मोहब्बत का नशा भी कमाल का था.......
Ashish shukla
वह कौन सा नगर है ?
वह कौन सा नगर है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
सास खोल देहली फाइल
सास खोल देहली फाइल
नूरफातिमा खातून नूरी
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
* इस धरा को *
* इस धरा को *
surenderpal vaidya
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
वीकेंड
वीकेंड
Mukesh Kumar Sonkar
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
manjula chauhan
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
बहना तू सबला हो🙏
बहना तू सबला हो🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
*कहाँ वह बात दुनिया में, जो अपने रामपुर में है【 मुक्तक 】*
Ravi Prakash
*मेरा विश्वास*
*मेरा विश्वास*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मोर मुकुट संग होली
मोर मुकुट संग होली
Dinesh Kumar Gangwar
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
ruby kumari
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
इज़ाजत लेकर जो दिल में आए
इज़ाजत लेकर जो दिल में आए
शेखर सिंह
Loading...