Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

ख़ाक हुए अरमान सभी,

ख़ाक हुए अरमान सभी,
अब तो केवल जिंदा हैं ।

✍️ अरविन्द त्रिवेदी
उन्नाव उ० प्र०

1 Like · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Arvind trivedi
View all
You may also like:
"जलती आग"
Dr. Kishan tandon kranti
वारिस हुई
वारिस हुई
Dinesh Kumar Gangwar
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
मर्यादापुरुषोतम श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ख़बर ही नहीं
ख़बर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
2736. *पूर्णिका*
2736. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आलता महावर
आलता महावर
Pakhi Jain
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
ग़ज़ल (तुमने जो मिलना छोड़ दिया...)
डॉक्टर रागिनी
क्या हो तुम मेरे लिए (कविता)
क्या हो तुम मेरे लिए (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
#नहीं_जानते_हों_तो
#नहीं_जानते_हों_तो
*प्रणय प्रभात*
'आरक्षितयुग'
'आरक्षितयुग'
पंकज कुमार कर्ण
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
Arghyadeep Chakraborty
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
अनिल कुमार
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक स्त्री चाहे वह किसी की सास हो सहेली हो जेठानी हो देवरानी
एक स्त्री चाहे वह किसी की सास हो सहेली हो जेठानी हो देवरानी
Pankaj Kushwaha
चाँद
चाँद
ओंकार मिश्र
राजस्थान में का बा
राजस्थान में का बा
gurudeenverma198
फारसी के विद्वान श्री सैयद नवेद कैसर साहब से मुलाकात
फारसी के विद्वान श्री सैयद नवेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
मैं भी कवि
मैं भी कवि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*तेरे इंतज़ार में*
*तेरे इंतज़ार में*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए
दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए
VINOD CHAUHAN
मोहब्बत का पैगाम
मोहब्बत का पैगाम
Ritu Asooja
From dust to diamond.
From dust to diamond.
Manisha Manjari
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
भ्रष्ट होने का कोई तय अथवा आब्जेक्टिव पैमाना नहीं है। एक नास
Dr MusafiR BaithA
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
कार्तिक नितिन शर्मा
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Loading...