Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 1 min read

खयालों ख्वाब पर कब्जा मुझे अच्छा नहीं लगता

ख़यालो ख्वाब पर कब्ज़ा मुझे अच्छा नहीं लगता।
मुखौटे में छुपा चेहरा मुझे अच्छा नहीं लगता।
❣️
मुहब्बत में कनीज़¹ और बादशाहत का दिली रिश्ता।
कभी भी इश्क़ में शजरा² मुझे अच्छा नहीं लगता।
❣️
मुझे ख़्वाबों में आने से कहां तुम रोक सकते हो।
ख़यालों पर कोई पहरा मुझे अच्छा नहीं लगता।
❣️
दिलों में नुक्स,ज़हनों में ज़हर,बातों में नफ़रत हो।
दिलों पर ज़ख़्म दे गहरा,मुझे अच्छा नही लगता।
❣️
“सगी़र” हाथों में दौलत हो,सभी को बांट देता मैं।
कोई गु़र्बत³ में हो रुसवा⁴, मुझे अच्छा नहीं लगता।
शब्दार्थ
1 सेविका, 2 वंश वृक्ष 3 गरीबी 4 शर्मिंदा

Language: Hindi
37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्तो को कायम रखना चाहते हो
रिश्तो को कायम रखना चाहते हो
Harminder Kaur
पाहन भी भगवान
पाहन भी भगवान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
जिंदगी
जिंदगी
Sangeeta Beniwal
कहां की बात, कहां चली गई,
कहां की बात, कहां चली गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
Dr. Man Mohan Krishna
यह जो कानो में खिचड़ी पकाते हो,
यह जो कानो में खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
नए पुराने रूटीन के याचक
नए पुराने रूटीन के याचक
Dr MusafiR BaithA
आज तू नहीं मेरे साथ
आज तू नहीं मेरे साथ
हिमांशु Kulshrestha
💐प्रेम कौतुक-562💐
💐प्रेम कौतुक-562💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* धीरे धीरे *
* धीरे धीरे *
surenderpal vaidya
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
जीवन में सफलता पाने के लिए तीन गुरु जरूरी हैं:
Sidhartha Mishra
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
Shubham Pandey (S P)
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
3158.*पूर्णिका*
3158.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
मैंने खुद की सोच में
मैंने खुद की सोच में
Vaishaligoel
*घूॅंघट सिर से कब हटा, रहती इसकी ओट (कुंडलिया)*
*घूॅंघट सिर से कब हटा, रहती इसकी ओट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्यों मुश्किलों का
क्यों मुश्किलों का
Dr fauzia Naseem shad
मोदी एक महानायक
मोदी एक महानायक
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
Lokesh Sharma
लेखक होने का आदर्श यही होगा कि
लेखक होने का आदर्श यही होगा कि
Sonam Puneet Dubey
यह कौनसा आया अब नया दौर है
यह कौनसा आया अब नया दौर है
gurudeenverma198
ना नींद है,ना चैन है,
ना नींद है,ना चैन है,
लक्ष्मी सिंह
"कुपढ़ बस्ती के लोगों ने,
*प्रणय प्रभात*
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
जीवन मंत्र वृक्षों के तंत्र होते हैं
Neeraj Agarwal
Loading...