Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

खजुराहो

शीर्षक” खजुराहो”

मेरे कंकाल में चिपकी है
कविताओं की एक
पुरानी पांडुलिपि
जिस में मैंने लिखी है
वृक्ष के केश में फँसे हुए
तारों की कहानी

ख्वाब और ख्वाहिशों में
लड़खड़ाती वफाओं को लेकर
खत्म हो चुके प्रेम की तलाश में
नासमझ खजुराहो की नर्तकियाँ
नजर नहीं मिला पाती खुद से
कैसे समझाऊँ उन्हें
इस गुफा के संगीत और
अंधकार के बीच में
समय ने मुझे भी छला है

शाम से उड़ने वाली
मुट्ठी भर धूल
नाचती रहती है देर रात तक
फुसफुसाती है कुछ
मैंने उसे सुन लिया
वह एक सवाल था
“क्या किसी पुरुष ने दी है
कभी अग्निपरीक्षा?”

शिला में लिपटे असंख्य स्वप्न
तड़पते हैं, तड़पते हैं
एक झंकार के लिए
अपने अस्तित्व को
जाहिर करने के लिये
देखते हैं मुझे टकटकी लगाए

हाँ, यह सच तो है
प्राण हो या निष्प्राण
नारी को ही तो ढूँढनी पड़ती है
अपनी अस्मिता

मगर मैं तो हूँ एक अवशेष
इतिहास के खंडहरों में
कैसे कहूँ तुम्हें
भाषा के अलावा
नहीं कोई और हथियार
मेरे पास।

पारमिता षड़गीं

231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
साक्षात्कार स्वयं का
साक्षात्कार स्वयं का
Pratibha Pandey
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रक्षा बन्धन पर्व ये,
रक्षा बन्धन पर्व ये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
3249.*पूर्णिका*
3249.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
पेड़ लगाओ तुम ....
पेड़ लगाओ तुम ....
जगदीश लववंशी
"चुभती सत्ता "
DrLakshman Jha Parimal
शंगोल
शंगोल
Bodhisatva kastooriya
"वक्त-वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
इतिहास गवाह है
इतिहास गवाह है
शेखर सिंह
हमने तुमको दिल दिया...
हमने तुमको दिल दिया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन से तम को दूर करो
जीवन से तम को दूर करो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
“जिंदगी की राह ”
“जिंदगी की राह ”
Yogendra Chaturwedi
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
श्री राम अर्चन महायज्ञ
श्री राम अर्चन महायज्ञ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
Shweta Soni
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"बूढ़ा" तो एक दिन
*प्रणय प्रभात*
युग प्रवर्तक नारी!
युग प्रवर्तक नारी!
कविता झा ‘गीत’
!!  श्री गणेशाय् नम्ः  !!
!! श्री गणेशाय् नम्ः !!
Lokesh Sharma
फूल भी हम सबको जीवन देते हैं।
फूल भी हम सबको जीवन देते हैं।
Neeraj Agarwal
Dil toot jaayein chalega
Dil toot jaayein chalega
Prathmesh Yelne
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
Manju Singh
मैं तो महज संसार हूँ
मैं तो महज संसार हूँ
VINOD CHAUHAN
बात उनकी क्या कहूँ...
बात उनकी क्या कहूँ...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
ruby kumari
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
आ मिल कर साथ चलते हैं....!
आ मिल कर साथ चलते हैं....!
VEDANTA PATEL
Loading...