Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

*क्षीर सागर (बाल कविता)*

क्षीर सागर (बाल कविता)

क्षीर शब्द का अर्थ खीर है
सागर एक प्रसिद्ध क्षीर है
दूध जहॉं बहता रहता है
जगत क्षीर सागर कहता है
नारायण को शीश झुकाओ
उन्हें क्षीर सागर में पाओ

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

446 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
न कल के लिए कोई अफसोस है
न कल के लिए कोई अफसोस है
ruby kumari
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अलबेला अब्र
अलबेला अब्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
Neeraj Agarwal
👌ग़ज़ल :--
👌ग़ज़ल :--
*Author प्रणय प्रभात*
Wakt hi wakt ko batt  raha,
Wakt hi wakt ko batt raha,
Sakshi Tripathi
शायरी
शायरी
डॉ मनीष सिंह राजवंशी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
जो लोग बिछड़ कर भी नहीं बिछड़ते,
शोभा कुमारी
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
AVINASH (Avi...) MEHRA
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
Arghyadeep Chakraborty
💐प्रेम कौतुक-460💐
💐प्रेम कौतुक-460💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
सफलता
सफलता
Ankita Patel
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
Sonu sugandh
अरमान
अरमान
Kanchan Khanna
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*सपने कुछ देखो बड़े, मारो उच्च छलॉंग (कुंडलिया)*
*सपने कुछ देखो बड़े, मारो उच्च छलॉंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रस्म उल्फत की यह एक गुनाह में हर बार करु।
रस्म उल्फत की यह एक गुनाह में हर बार करु।
Phool gufran
जाते जाते मुझे वो उदासी दे गया
जाते जाते मुझे वो उदासी दे गया
Ram Krishan Rastogi
अलगौझा
अलगौझा
भवानी सिंह धानका "भूधर"
संदेश बिन विधा
संदेश बिन विधा
Mahender Singh
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
surenderpal vaidya
भ्रमन टोली ।
भ्रमन टोली ।
Nishant prakhar
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
Buddha Prakash
न जाने क्या ज़माना चाहता है
न जाने क्या ज़माना चाहता है
Dr. Alpana Suhasini
बनारस
बनारस
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...