Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2024 · 1 min read

#क्षणिका-

#क्षणिका-
■ बुरा न मानो होली है।
【प्रणय प्रभात】
“लालची बहना ने, तीन मंज़िला आलीशान मकान पर, पार्टी के चार-चार झंडे लहराए।
मगर खाते में पैसे इस बार भी नहीं आए।।

1 Like · 40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
■ कृष्ण_पक्ष
■ कृष्ण_पक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
आबाद वतन रखना, महका चमन रखना
आबाद वतन रखना, महका चमन रखना
gurudeenverma198
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
"फितरत"
Ekta chitrangini
3094.*पूर्णिका*
3094.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भरत
भरत
Sanjay ' शून्य'
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
*सरस्वती वन्दना*
*सरस्वती वन्दना*
Ravi Prakash
एक खत जिंदगी के नाम
एक खत जिंदगी के नाम
पूर्वार्थ
*दिल से*
*दिल से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
Suryakant Dwivedi
खूब रोता मन
खूब रोता मन
Dr. Sunita Singh
ঐটা সত্য
ঐটা সত্য
Otteri Selvakumar
"सुधार"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन का मकसद क्या है?
जीवन का मकसद क्या है?
Buddha Prakash
बेटी की बिदाई ✍️✍️
बेटी की बिदाई ✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
-- मौत का मंजर --
-- मौत का मंजर --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सत्य
सत्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दशावतार
दशावतार
Shashi kala vyas
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
बिन मौसम के ये बरसात कैसी
Ram Krishan Rastogi
रिश्ता कमज़ोर
रिश्ता कमज़ोर
Dr fauzia Naseem shad
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आस्था
आस्था
Neeraj Agarwal
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
Loading...