Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

*क्रोध की गाज*

… क्रोध की गाज….
आसमान से गिरती गाज़,
और धरा को सहना पड़ता,
क्रोध, हे मानव ! ऐसा होता,
करते जब भी क्रोध तुम,
खो आपे से हो कर के बहार,
औरो को दर्द सहना पड़ता,
खुद भी होत जाते हो शिकार,
हाथ जलते तुम्हारे भी,
गर्म कोयले को रखते अपने हाथ,
पहुँचता है केवल घात,
मानव करता अपना ही नुकसान,
पछतावा ही अंत हाथ लगता,
बात समझ मे आता तब,
क्रोध छोड़ कर जाता जब।

Language: Hindi
1 Like · 486 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
"चुनौतियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
चाटुकारिता
चाटुकारिता
Radha shukla
पर्यावरण
पर्यावरण
Dinesh Kumar Gangwar
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
अनिल कुमार
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
जब हमें तुमसे मोहब्बत ही नहीं है,
Dr. Man Mohan Krishna
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
गुमनाम 'बाबा'
बूँद बूँद याद
बूँद बूँद याद
Atul "Krishn"
तड़फ रहा दिल हिज्र में तेरे
तड़फ रहा दिल हिज्र में तेरे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
गज़रा
गज़रा
Alok Saxena
Remembering that winter Night
Remembering that winter Night
Bidyadhar Mantry
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राजीव प्रखर (कुंडलिया)
राजीव प्रखर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
धर्म-कर्म (भजन)
धर्म-कर्म (भजन)
Sandeep Pande
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
Buddha Prakash
जलाना था जिस चराग़ को वो जला ना पाया,
जलाना था जिस चराग़ को वो जला ना पाया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नमन उस वीर को शत-शत...
नमन उस वीर को शत-शत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
My life's situation
My life's situation
Sukoon
धीरे-धीरे ला रहा, रंग मेरा प्रयास ।
धीरे-धीरे ला रहा, रंग मेरा प्रयास ।
sushil sarna
पूर्णिमा की चाँदनी.....
पूर्णिमा की चाँदनी.....
Awadhesh Kumar Singh
बाल कविता: मेरा कुत्ता
बाल कविता: मेरा कुत्ता
Rajesh Kumar Arjun
***संशय***
***संशय***
प्रेमदास वसु सुरेखा
रुचि पूर्ण कार्य
रुचि पूर्ण कार्य
लक्ष्मी सिंह
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
गुप्तरत्न
Loading...