Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 2 min read

क्रेडिट कार्ड

हो जाओ हर खुशी के लिए तैयार
ले लो हमारे बैंक का क्रेडिट कार्ड
फ्री है यह जादू की चिप्पी
ले आओ जीवन मे सुविधा की मस्ती
एक लाख का सामान लो उधार
अपने सपने के घर को दो आकार
छोटी सी ज़िन्दगी क्यो घुट घुट के जीना
परिचितो के सामने शर्म का घूंट क्यो पीना
कम तनख्वाह मे अमीरी अपनी दिखलाओ
56 इंच का स्मार्ट टी वी फौरन घर ले आओ
आत्मविश्वास अपने भीतर भरोगे
सबके सामने सीना तान के चलोगे
किश्तो मे पैसे चुकते जाएगें
घरवाले भी अपना पूरा प्यार लुटाएगें

फोन पर मीठी बोली ने कर दिया कोई जादू
हामी भर झट पूरा किया कार्ड अपने काबू
तीन दिन मे कार्ड अपने हाथ था
लंबा छोटे अक्षरो मे लिखा पर्चा साथ था
चिट्ठी सहित पर्चे को बेग मे संभाला
नए नवेले कार्ड को एहतियात से खीसे मे डाला
जेब मे लाख रूपए होने के भाव से सीना कुछ फूल गया
घरवाली को प्रसन्न करने का अवसर मन मे घूम गया
साडी , जेवर, ओवन, या अलमारी ले आऊ
जो भी हो फर्माइश मै पूरा करते जाऊ
पत्नी ने पूछा एक सवाल ,
कैसे और कब चुकेगा यह उधार का पहाड
क्या शर्ते पढ़ ली है श्रीमान
कागज को फिर से निकाला गया
लैंस लगा छोटे अक्षरो को बांचा गया
पढ़ने के साथ उत्साह ठंडा पडने लगा
भारी शर्तो से शरीर का ज्वार चढ़ने लगा
पुनर्भरण और पेनल्टी देख सर चकरा गया
अब तक आशा से चमकती आंखो के सामने
अंधेरा छा गया
थोडी देर के लिए मुट्ठी मे कैद दुनिया फिसल गई
मन की इच्छा टूटे स्वप्न सी बिखर गई
कार्ड को भरे मन से बटुए से आजाद किया
उधार लेकर घी ना पीने का प्रण कई बार किया

संदीप पांडे”शिष्य” अजमेर

Language: Hindi
4 Likes · 106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sandeep Pande
View all
You may also like:
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
"पलायन"
Dr. Kishan tandon kranti
राष्ट्रशांति
राष्ट्रशांति
Neeraj Agarwal
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
टूट गया हूं शीशे सा,
टूट गया हूं शीशे सा,
Umender kumar
*नुक्कड़ की चाय*
*नुक्कड़ की चाय*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
जो मेरे लफ्ज़ न समझ पाए,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
Rj Anand Prajapati
#गीत-
#गीत-
*प्रणय प्रभात*
प्रतिश्रुति
प्रतिश्रुति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पल भर तमाशों के बीच ज़िंदगी गुजर रही है,
पल भर तमाशों के बीच ज़िंदगी गुजर रही है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक संदेश युवाओं के लिए
एक संदेश युवाओं के लिए
Sunil Maheshwari
पुनीत /लीला (गोपी) / गुपाल छंद (सउदाहरण)
पुनीत /लीला (गोपी) / गुपाल छंद (सउदाहरण)
Subhash Singhai
किसी की हिफाजत में,
किसी की हिफाजत में,
Dr. Man Mohan Krishna
*बहन और भाई के रिश्ते, का अभिनंदन राखी है (मुक्तक)*
*बहन और भाई के रिश्ते, का अभिनंदन राखी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
*देकर ज्ञान गुरुजी हमको जीवन में तुम तार दो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
बुझलहूँ आहाँ महान छी मुदा, रंगमंच पर फेसबुक मित्र छी!
बुझलहूँ आहाँ महान छी मुदा, रंगमंच पर फेसबुक मित्र छी!
DrLakshman Jha Parimal
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
स्वागत है इस नूतन का यह वर्ष सदा सुखदायक हो।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
उम्र थका नही सकती,
उम्र थका नही सकती,
Yogendra Chaturwedi
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
3363.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3363.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
पहला खत
पहला खत
Mamta Rani
जो हो इक बार वो हर बार हो ऐसा नहीं होता
जो हो इक बार वो हर बार हो ऐसा नहीं होता
पूर्वार्थ
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
Harminder Kaur
Loading...