Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2022 · 1 min read

क्रांति के अग्रदूत

किसने कहा कि अछूत हैं हम लोग!
भारत के सच्चे सपूत हैं हम लोग!!
आने वाली जो कुछ ही बरसों में-
उसी क्रांति के अग्रदूत हैं हम लोग!!
Shekhar Chandra Mitra
#दलित_विमर्श #revolution #Dalit #बहुजन #उत्पीड़न #गरीबी #बुद्ध #जयभीम #इंकलाब
#rajendragautam #धम्म #विद्रोह #buddha

Language: Hindi
1 Like · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
धुनी रमाई है तेरे नाम की
धुनी रमाई है तेरे नाम की
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
* शरारा *
* शरारा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देखो ना आया तेरा लाल
देखो ना आया तेरा लाल
Basant Bhagawan Roy
हॅंसी
हॅंसी
Paras Nath Jha
3122.*पूर्णिका*
3122.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भार्या
भार्या
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बाल कविता: चिड़िया आयी
बाल कविता: चिड़िया आयी
Rajesh Kumar Arjun
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
पुस्तकों की पुस्तकों में सैर
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
इस जग में हैं हम सब साथी
इस जग में हैं हम सब साथी
Suryakant Dwivedi
बेफिक्री की उम्र बचपन
बेफिक्री की उम्र बचपन
Dr Parveen Thakur
*चलता रहेगा विश्व यह, हम नहीं होंगे मगर (वैराग्य गीत)*
*चलता रहेगा विश्व यह, हम नहीं होंगे मगर (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
manjula chauhan
****बसंत आया****
****बसंत आया****
Kavita Chouhan
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
हमारा अपना........ जीवन
हमारा अपना........ जीवन
Neeraj Agarwal
आधार छन्द-
आधार छन्द- "सीता" (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गालगागा गालगागा गालगागा गालगा (15 वर्ण) पिंगल सूत्र- र त म य र
Neelam Sharma
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
आंख मेरी ही
आंख मेरी ही
Dr fauzia Naseem shad
सत्य न्याय प्रेम प्रतीक जो
सत्य न्याय प्रेम प्रतीक जो
Dr.Pratibha Prakash
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
प्रो. दलजीत कुमार बने पर्यावरण के प्रहरी
Nasib Sabharwal
When you become conscious of the nature of God in you, your
When you become conscious of the nature of God in you, your
पूर्वार्थ
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
कवि
कवि
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐प्रेम कौतुक-528💐
💐प्रेम कौतुक-528💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
ज़ेहन से
ज़ेहन से
हिमांशु Kulshrestha
Loading...