Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

क्यों लड़ना और लड़ाना है

परवाना ये दीवाना है
लेकिन उसको जल जाना है

मकड़ी के जाले सी दुनिया
सबको इसमें फंस जाना है

गम इतने हैं आमजनों के
अब छलक रहा पैमाना है

जाने ध्यान कहाँ है भटका
क्यों लगता नहीं निशाना है

सब लोग यहाँ हैं इक जैसे
क्यों फिर शोर मचाना है

जब तक रहो प्यार से रह लो
क्यों लड़ना और लड़ाना है
रचना: बसंत कुमार शर्मा, जबलपुर

3 Comments · 279 Views
You may also like:
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता भगवान का अवतार होता है।
Taj Mohammad
वक़्त
Mahendra Rai
Is It Possible
Manisha Manjari
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
भाईजान की बात
AJAY PRASAD
पानी का दर्द
Anamika Singh
कबीरा...
Sapna K S
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
सबसे बेहतर है।
Taj Mohammad
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पिता
Aruna Dogra Sharma
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
प्यार का अलख
DESH RAJ
गांव के घर में।
Taj Mohammad
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
ख़ुद ही हालात समझने की नज़र देता है,
Aditya Shivpuri
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
आग
Anamika Singh
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
Loading...