Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2016 · 1 min read

क्यों लड़ना और लड़ाना है

परवाना ये दीवाना है
लेकिन उसको जल जाना है

मकड़ी के जाले सी दुनिया
सबको इसमें फंस जाना है

गम इतने हैं आमजनों के
अब छलक रहा पैमाना है

जाने ध्यान कहाँ है भटका
क्यों लगता नहीं निशाना है

सब लोग यहाँ हैं इक जैसे
क्यों फिर शोर मचाना है

जब तक रहो प्यार से रह लो
क्यों लड़ना और लड़ाना है
रचना: बसंत कुमार शर्मा, जबलपुर

3 Comments · 615 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौन
मौन
Shyam Sundar Subramanian
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो माँ)
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो माँ)
Dr Archana Gupta
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्रणय 7
प्रणय 7
Ankita Patel
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
# डॉ अरुण कुमार शास्त्री
# डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेकारी का सवाल
बेकारी का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
Piyush Goel
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
*इश्क़ से इश्क़*
*इश्क़ से इश्क़*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दीपावली
दीपावली
डॉ. शिव लहरी
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
या'रब किसी इंसान को
या'रब किसी इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
विनय
विनय
Kanchan Khanna
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
Phool gufran
दोस्त.............एक विश्वास
दोस्त.............एक विश्वास
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-373💐
💐प्रेम कौतुक-373💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चींटी रानी
चींटी रानी
Manu Vashistha
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3242.*पूर्णिका*
3242.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
मैं तो हमेशा बस मुस्कुरा के चलता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
Akib Javed
फ़ितरत-ए-दिल की मेहरबानी है ।
फ़ितरत-ए-दिल की मेहरबानी है ।
Neelam Sharma
पार्वती
पार्वती
लक्ष्मी सिंह
"नृत्य आत्मा की भाषा है। आत्मा और परमात्मा के बीच अन्तरसंवाद
*Author प्रणय प्रभात*
वसुधैव कुटुंबकम है, योग दिवस की थीम
वसुधैव कुटुंबकम है, योग दिवस की थीम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कलानिधि
कलानिधि
Raju Gajbhiye
आवारा पंछी / लवकुश यादव
आवारा पंछी / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
Loading...