Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-416💐

क्यों न इक सवाल छोड़ा जाए उनके लिए,
हमें तसल्ली भी मिले,शायद हो उनके लिए,
यह सब दिल का ज़बाब है जो जुस्तजू से है,
बड़ी बात क्या है वो मेरे हैं, मैं हूँ उनके लिए।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
Tag: Hindi Quotes, Quote Writer
18 Views
You may also like:
Dont loose your hope without doing nothing.
Dont loose your hope without doing nothing.
Sakshi Tripathi
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को, अब वही राहें घर से
कभी जो रास्ते तलाशते थे घर की तरफ आने को,...
Manisha Manjari
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of...
Ankita Patel
धन्वंतरि पूजा
धन्वंतरि पूजा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पंचशील गीत
पंचशील गीत
Buddha Prakash
हम हैं गुलाम ए मुस्तफा दुनिया फिजूल है।
हम हैं गुलाम ए मुस्तफा दुनिया फिजूल है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कला
कला
Saraswati Bajpai
💝एक अबोध बालक💝
💝एक अबोध बालक💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धर्मांध भीड़ के ख़तरे
धर्मांध भीड़ के ख़तरे
Shekhar Chandra Mitra
ऐतबार ।
ऐतबार ।
Anil Mishra Prahari
✍️कुछ बाते…
✍️कुछ बाते…
'अशांत' शेखर
बंधन
बंधन
सूर्यकांत द्विवेदी
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
चांद से सवाल
चांद से सवाल
Nanki Patre
दरकते हुए रिश्तों में
दरकते हुए रिश्तों में
Dr fauzia Naseem shad
छाया है मधुमास सखी री, रंग रंगीली होली
छाया है मधुमास सखी री, रंग रंगीली होली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-503💐
💐प्रेम कौतुक-503💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ मुक्तक / जीने का मंत्र
■ मुक्तक / जीने का मंत्र
*Author प्रणय प्रभात*
आओ और सराहा जाये
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
शीर्षक :- आजकल के लोग
शीर्षक :- आजकल के लोग
Nitish Nirala
अब तक मैं
अब तक मैं
gurudeenverma198
पत्रकार
पत्रकार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गोल चश्मा और लाठी...
गोल चश्मा और लाठी...
मनोज कर्ण
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक जिंदगी एक है जीवन
एक जिंदगी एक है जीवन
विजय कुमार अग्रवाल
,अगर तुम हमसफ़र होते
,अगर तुम हमसफ़र होते
Surinder blackpen
*आर्य समाज जाति व्यवस्था में विश्वास नहीं करता*
*आर्य समाज जाति व्यवस्था में विश्वास नहीं करता*
Ravi Prakash
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
मुझमें अभी भी प्यास बाकी है ।
Arvind trivedi
// लो फागुन आई होली आया //
// लो फागुन आई होली आया //
Surya Barman
Loading...