Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-416💐

क्यों न इक सवाल छोड़ा जाए उनके लिए,
हमें तसल्ली भी मिले,शायद हो उनके लिए,
यह सब दिल का ज़बाब है जो जुस्तजू से है,
बड़ी बात क्या है वो मेरे हैं, मैं हूँ उनके लिए।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
414 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
मुझे पतझड़ों की कहानियाँ,
Dr Tabassum Jahan
जब से हैं तब से हम
जब से हैं तब से हम
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
Mahender Singh
अगर कभी मिलना मुझसे
अगर कभी मिलना मुझसे
Akash Agam
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
Swami Ganganiya
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
Natasha is my Name!
Natasha is my Name!
Natasha Stephen
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
"जब शोहरत मिली तो"
Dr. Kishan tandon kranti
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
■ कविता / स्वान्त सुखाय :-
■ कविता / स्वान्त सुखाय :-
*Author प्रणय प्रभात*
धनवान -: माँ और मिट्टी
धनवान -: माँ और मिट्टी
Surya Barman
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
जब तुम नहीं सुनोगे भैया
DrLakshman Jha Parimal
शिव विनाशक,
शिव विनाशक,
shambhavi Mishra
That poem
That poem
Bidyadhar Mantry
धर्मनिरपेक्ष मूल्य
धर्मनिरपेक्ष मूल्य
Shekhar Chandra Mitra
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
धड़कन से धड़कन मिली,
धड़कन से धड़कन मिली,
sushil sarna
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
Neelam Sharma
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
umesh mehra
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
भोर सुहानी हो गई, खिले जा रहे फूल।
surenderpal vaidya
सत्य
सत्य
Dinesh Kumar Gangwar
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
3329.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3329.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
बाबा फरीद ! तेरे शहर में हम जबसे आए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
एक बार फिर...
एक बार फिर...
Madhavi Srivastava
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
चाहने वाले कम हो जाए तो चलेगा...।
Maier Rajesh Kumar Yadav
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...