Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई!

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई।
क्यों अधूरी जिंदगानी रह गई।

क्यों खफा हो ये बता दो तुम मुझे,
बिच हमारे दरमियानी रह गई।

चाँद- तारों में दिखे सूरत सनम,
ये मुहब्बत आसमानी रह गई।

तुम गुनाहों को छुपा सकते नहीं
आँख में गर सिर्फ पानी रह गई।

इश्क़ का इज़हार मैंने कर दिया,
मेहंदी बस अब लगानी रह गई।

लोग जो बदनाम करते है यहाँ,
प्यार उनसे भी लुटानी रह गई।

गौर से सुन दर्द की आहें अभी,
जख्म में मरहम लगानी रह गई।

खो न देना इन खतों को अब शुभम्
आखिरी ये ही निशानी रह गई।

2 Comments · 269 Views
You may also like:
कविता
Sushila Joshi
पुष्प की पीड़ा
rkchaudhary2012
Book of the day: धागे (काव्य संग्रह)
Sahityapedia
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Meenakshi Nagar
चाँदनी में नहाती रही रात भर
Dr Archana Gupta
The moon descended into the lake.
Manisha Manjari
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
हिंदी
Vandana Namdev
*रामपुर के गुमनाम क्रांतिकारी*
Ravi Prakash
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
घर की रानी
Kanchan Khanna
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
एक आशिक की संवेदना
Aditya Prakash
अबला नारी
Buddha Prakash
तुम्हारा मिलना
Saraswati Bajpai
जोकर vs कठपुतली ~02
bhandari lokesh
खुद को भी
Dr fauzia Naseem shad
तुझे मतलूब थी वो रातें कभी
Manoj Kumar
प्यार करके।
Taj Mohammad
दीप आवाहन दोहा एकादश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️✍️रंग✍️✍️
'अशांत' शेखर
मैथिली के प्रथम मुस्लिम कवि फजलुर रहमान हाशमी (शख्सियत) -...
श्रीहर्ष आचार्य
बाल कहानी- गणतंत्र दिवस
SHAMA PARVEEN
अवसर
Shekhar Chandra Mitra
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
आईना_रब का
मनोज कर्ण
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
अज़ल से प्यार करना इतना आसान है क्या /लवकुश यादव...
लवकुश यादव "अज़ल"
बदरा कोहनाइल हवे
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
Loading...