Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई!

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई।
क्यों अधूरी जिंदगानी रह गई।

क्यों खफा हो ये बता दो तुम मुझे,
बिच हमारे दरमियानी रह गई।

चाँद- तारों में दिखे सूरत सनम,
ये मुहब्बत आसमानी रह गई।

तुम गुनाहों को छुपा सकते नहीं
आँख में गर सिर्फ पानी रह गई।

इश्क़ का इज़हार मैंने कर दिया,
मेहंदी बस अब लगानी रह गई।

लोग जो बदनाम करते है यहाँ,
प्यार उनसे भी लुटानी रह गई।

गौर से सुन दर्द की आहें अभी,
जख्म में मरहम लगानी रह गई।

खो न देना इन खतों को अब शुभम्
आखिरी ये ही निशानी रह गई।

2 Comments · 207 Views
You may also like:
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
रिश्ते
Saraswati Bajpai
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
चेहरे पर चेहरे लगा लो।
Taj Mohammad
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Apology
Mahesh Ojha
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
एक दुखियारी माँ
DESH RAJ
जीने का नजरिया अंदर चाहिए।
Taj Mohammad
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
"अशांत" शेखर
खस्सीक दाम दस लाख
Ranjit Jha
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
बुलबुला
मनोज शर्मा
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इश्क था मेरा।
Taj Mohammad
रफ्तार
Anamika Singh
बहुत घूमा हूं।
Taj Mohammad
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H. Amin
Loading...