Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2023 · 1 min read

क्योंकि मै प्रेम करता हु – क्योंकि तुम प्रेम करती हो

हम दोनों को मिलते ही, क्यों अपनापन सा लगता है
दिवाना हो गया तेरा, दीवाना खुल के कहता है
अगर कुछ भी नही, एक दूसरे को चाहते हैं क्यूं
क्योंकि मै प्रेम करता हु – क्योंकि तुम प्रेम करती हो।

दूर जब – जब तुमसे होता, तड़पने दिल ये लगाता है
मिलन की आश में खोया, मेरा तन मन ये रहता है
हो ना तकलीफ कोई भी, फिक्र मुझको सताती क्यूं ।
क्योंकि मैं प्रेम करता हु………..

हमे अब नींद ना आती, ना रहता चैन एक पल भी
तेरे ही ख्वाब में खोया, मैं रह जाता हु हर पल ही
बिन तेरे हाल को जाने, रहा जाता ना बोलो क्यूं ।
क्योंकि तुम प्रेम…………

बनाओ ना बहाने अब, जो भी है साफ कह दो ना
अगर बढ़ना है आगे तो, ये मेरा हाथ धर लो ना
बताओ सच नहीं है ये, तो हम छुप – छुप के मिलते क्यूं।
क्योंकि मैं प्रेम ………

✍️ बसंत भगवान राय

Language: Hindi
1 Like · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
पुष्पदल
पुष्पदल
sushil sarna
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
प्यार की कस्ती पे
प्यार की कस्ती पे
Surya Barman
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
Hitanshu singh
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
इतनी भी
इतनी भी
Santosh Shrivastava
मैं लिखता हूं..✍️
मैं लिखता हूं..✍️
Shubham Pandey (S P)
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
बुद्ध रूप ने मोह लिया संसार।
बुद्ध रूप ने मोह लिया संसार।
Buddha Prakash
*लफ्ज*
*लफ्ज*
Kumar Vikrant
ग़ज़ल _ मिरी #मैयत पे  रोने मे.....
ग़ज़ल _ मिरी #मैयत पे  रोने मे.....
शायर देव मेहरानियां
मोहब्बत का ज़माना आ गया है
मोहब्बत का ज़माना आ गया है
Surinder blackpen
💐प्रेम कौतुक-325💐
💐प्रेम कौतुक-325💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
Dr Parveen Thakur
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
खिल उठेगा जब बसंत गीत गाने आयेंगे
Er. Sanjay Shrivastava
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
कवि रमेशराज
■ याद रहे...
■ याद रहे...
*Author प्रणय प्रभात*
"सपने"
Dr. Kishan tandon kranti
महिमा है सतनाम की
महिमा है सतनाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक दिवस में
एक दिवस में
Shweta Soni
*फिर से बने विश्व गुरु भारत, ऐसा हिंदुस्तान हो (गीत)*
*फिर से बने विश्व गुरु भारत, ऐसा हिंदुस्तान हो (गीत)*
Ravi Prakash
* सुखम् दुखम *
* सुखम् दुखम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रार्थना
प्रार्थना
Shally Vij
*कैसे हार मान लूं
*कैसे हार मान लूं
Suryakant Dwivedi
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
Loading...