Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक- 292💐

क्या हुआ सुकूँ नहीं मिला अभी,
‘बे-एतिबार’ पर भी ‘एहतिमाल’ है।

©®अभिषेक: पाराशरः आनन्द

Language: Hindi
134 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
Neelam Sharma
शीर्षक:
शीर्षक: "ओ माँ"
MSW Sunil SainiCENA
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
Shekhar Chandra Mitra
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
bharat gehlot
जीवन की यह झंझावातें
जीवन की यह झंझावातें
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
gurudeenverma198
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
BLACK DAY (PULWAMA ATTACK)
BLACK DAY (PULWAMA ATTACK)
Jyoti Khari
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
.......,,,
.......,,,
शेखर सिंह
मृदा प्रदूषण घातक है जीवन को
मृदा प्रदूषण घातक है जीवन को
Buddha Prakash
3112.*पूर्णिका*
3112.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सच तो रोशनी का आना हैं
सच तो रोशनी का आना हैं
Neeraj Agarwal
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
*** सागर की लहरें....! ***
*** सागर की लहरें....! ***
VEDANTA PATEL
मायका
मायका
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
" बंध खोले जाए मौसम "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"बँटवारा"
Dr. Kishan tandon kranti
आज जो कल ना रहेगा
आज जो कल ना रहेगा
Ramswaroop Dinkar
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
ruby kumari
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#प्रणय_गीत-
#प्रणय_गीत-
*Author प्रणय प्रभात*
फूल
फूल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
राष्ट्रपिता
राष्ट्रपिता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...