Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2017 · 1 min read

क्या लिखूँ (विवेक बिजनोरी)

“सोचता हूँ क्या लिखूँ
दिल ए बेकरार लिखूँ
या खुद का पहला प्यार लिखूँ
सावन की बौंछार लिखूँ
या सैलाबो की मार लिखूँ
खुशियों का वो ढ़ेर लिखूँ
या किस्मत का फेर लिखूँ
खुद की कोई फिक्र लिखूँ
या खुदा का ज़िक्र लिखूँ
सोचता हूँ क्या लिखूँ
सूरज की वो धूप लिखूँ
या रातो का अंधकार लिखूँ
माँ का वो दुलार लिखूँ
या बाबा की फटकार लिखूँ
बचपन लिखूँ जवानी लिखूँ
या ऐसी कोई कहानी लिखूँ
ख्वाबो की परछाई लिखूँ
या खुद की ये तनहाई लिखूँ
सोचता हूँ क्या लिखूँ
धर्म लिखूँ या ईमान लिखूँ
चाहात लिखूँ या अरमान लिखूँ
खुद की कोई पहचान लिखूँ
या तुमको मैं भगवान लिखूँ
आपनो का वो साथ लिखूँ
या गैरो की सोगात लिखूँ
दिन लिखूँ या रात लिखूँ
कैसे दिल की हर बात लिखूँ
सोचता हूँ क्या लिखूँ

(विवेक बिजनोरी)

Language: Hindi
361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐Prodigy Love-24💐
💐Prodigy Love-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*परिचय*
*परिचय*
Pratibha Pandey
दान की महिमा
दान की महिमा
Dr. Mulla Adam Ali
"खूबसूरती"
Dr. Kishan tandon kranti
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दुनिया की ज़िंदगी भी
दुनिया की ज़िंदगी भी
shabina. Naaz
हम लड़के हैं जनाब...
हम लड़के हैं जनाब...
पूर्वार्थ
आज की तारीख हमें सिखा कर जा रही है कि आने वाली भविष्य की तार
आज की तारीख हमें सिखा कर जा रही है कि आने वाली भविष्य की तार
Seema Verma
भारत का अतीत
भारत का अतीत
Anup kanheri
*दिल कहता है*
*दिल कहता है*
Kavita Chouhan
दूर किसी वादी में
दूर किसी वादी में
Shekhar Chandra Mitra
स्थापित भय अभिशाप
स्थापित भय अभिशाप
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
खुदी में मगन हूँ, दिले-शाद हूँ मैं
खुदी में मगन हूँ, दिले-शाद हूँ मैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
थोड़ा नमक छिड़का
थोड़ा नमक छिड़का
Surinder blackpen
रक्षाबंधन का त्यौहार
रक्षाबंधन का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
Weekend
Weekend
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
Aarti sirsat
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
पास बुलाता सन्नाटा
पास बुलाता सन्नाटा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेम की बात जमाने से निराली देखी
प्रेम की बात जमाने से निराली देखी
Vishal babu (vishu)
छिपकली
छिपकली
Dr Archana Gupta
कवियों की कैसे हो होली
कवियों की कैसे हो होली
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*सुकृति (बाल कविता)*
*सुकृति (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
#प्रासंगिक
#प्रासंगिक
*Author प्रणय प्रभात*
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर: व्यक्तित्व आ कृतित्व।
Acharya Rama Nand Mandal
मेला
मेला
Dr.Priya Soni Khare
Loading...