Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2021 · 1 min read

क्या ठहर जाना ठीक है

खत्म हुआ यह ईंधन , अब क्या ठहर जाना ठीक है
बढ़ रही है धुंध क्या अब लौट जाना ठीक है ।।१

तूफानों के बीच शहर में क्या घर बनाना ठीक है
अंधीआले आलम में क्या दिया जलाना ठीक है।।२

राजनीति के इन मुद्दों पर क्या अड़ जाना ठीक है
भीतर- घर आंख मूंदकर क्या रह जाना ठीक है।।३

कोई बंजर भूमि पर क्या पौधा उगाना ठीक है
भरा हुआ है पेट फिर भी घूस खाना ठीक है।।४

कोमल कोमल दांतो से लोह – चने चबाना ठीक है
क्या कठिन परिश्रम से जग – रोशनाना ठीक है।।५

रह रहे जिस शीशे के घर में गुल खिलाना ठीक है
पुरखों की जमीनो पर क्या मकबरे बनाना ठीक है।।६

बंजर पड़ी जमीन पर क्या पौधे लगाना ठीक है
भ्रष्टाचार के मुद्दों को क्या नित् गिनाना ठीक है ।।७

खत्म हुआ यह ईंधन अब क्या ठहर जाना ठीक है
बढ़ रही है धुंध अब क्या लौट जाना ठीक है ।। ८

#कवि दीपक सरल

Language: Hindi
1 Like · 412 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
Keshav kishor Kumar
"स्टिंग ऑपरेशन"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
जीवन को सफल बनाने का तीन सूत्र : श्रम, लगन और त्याग ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अजीब है भारत के लोग,
अजीब है भारत के लोग,
जय लगन कुमार हैप्पी
जब मैं मंदिर गया,
जब मैं मंदिर गया,
नेताम आर सी
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
कोई...💔
कोई...💔
Srishty Bansal
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ३)
Kanchan Khanna
" चुस्की चाय की संग बारिश की फुहार
Dr Meenu Poonia
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
योग हमारी सभ्यता, है उपलब्धि महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
"चालाकी"
Ekta chitrangini
भारत के बीर सपूत
भारत के बीर सपूत
Dinesh Kumar Gangwar
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
23/36.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/36.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
Harminder Kaur
तल्खियां
तल्खियां
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
☄️💤 यादें 💤☄️
☄️💤 यादें 💤☄️
Dr Manju Saini
बेहद दौलत भरी पड़ी है।
बेहद दौलत भरी पड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
मातृ दिवस
मातृ दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
*Author प्रणय प्रभात*
खुली आंखें जब भी,
खुली आंखें जब भी,
Lokesh Singh
चला रहें शिव साइकिल
चला रहें शिव साइकिल
लक्ष्मी सिंह
मां की याद आती है🧑‍💻
मां की याद आती है🧑‍💻
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...