Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-311💐

क्या कोई बेहतर पयाम लिखा जा रहा है,
यहाँ भी वैसे ही इंतजार किया जा रहा है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हीं हो
तुम्हीं हो
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्या बोलूं
क्या बोलूं
Dr.Priya Soni Khare
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
तुझे भूले कैसे।
तुझे भूले कैसे।
Taj Mohammad
हो भासा विग्यानी।
हो भासा विग्यानी।
Acharya Rama Nand Mandal
बेटीयां
बेटीयां
Aman Kumar Holy
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
Harminder Kaur
सदा के लिए
सदा के लिए
Saraswati Bajpai
ना जाने सुबह है या शाम,
ना जाने सुबह है या शाम,
Madhavi Srivastava
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
मेरी पेशानी पे तुम्हारा अक्स देखकर लोग,
Shreedhar
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शेयर
शेयर
rekha mohan
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
ज्ञान के दाता तुम्हीं , तुमसे बुद्धि - विवेक ।
Neelam Sharma
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
gurudeenverma198
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Harish Chandra Pande
पिछले पन्ने भाग 2
पिछले पन्ने भाग 2
Paras Nath Jha
हर रोज़ यहां से जो फेंकता है वहां तक।
हर रोज़ यहां से जो फेंकता है वहां तक।
*प्रणय प्रभात*
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
चाय दिवस
चाय दिवस
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
जिसे सुनके सभी झूमें लबों से गुनगुनाएँ भी
आर.एस. 'प्रीतम'
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
कौन कहता है आक्रोश को अभद्रता का हथियार चाहिए ? हम तो मौन रह
DrLakshman Jha Parimal
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Bodhisatva kastooriya
जिन्दगी मे एक बेहतरीन व्यक्ति होने के लिए आप मे धैर्य की आवश
जिन्दगी मे एक बेहतरीन व्यक्ति होने के लिए आप मे धैर्य की आवश
पूर्वार्थ
Loading...