Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-311💐

क्या कोई बेहतर पयाम लिखा जा रहा है,
यहाँ भी वैसे ही इंतजार किया जा रहा है।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
45 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
*विधायकी में क्या रखा है ? (हास्य व्यंग्य)*
*विधायकी में क्या रखा है ? (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
विधाता का लेख
विधाता का लेख
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
आँखों की दुनिया
आँखों की दुनिया
Sidhartha Mishra
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
मेरे दिल में मोहब्बत आज भी है
कवि दीपक बवेजा
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
नज़रिया
नज़रिया
Dr. Kishan tandon kranti
हर स्नेह के प्रति, दिल में दुआएं रखना
हर स्नेह के प्रति, दिल में दुआएं रखना
Er.Navaneet R Shandily
The Hard Problem of Law
The Hard Problem of Law
AJAY AMITABH SUMAN
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
प्यार नहीं दे पाऊँगा
प्यार नहीं दे पाऊँगा
Kaushal Kumar Pandey आस
प्रेम
प्रेम
Bodhisatva kastooriya
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
चलो दूर चले
चलो दूर चले
Satish Srijan
■ हाल-बेहाल...
■ हाल-बेहाल...
*Author प्रणय प्रभात*
बापू
बापू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagwan Roy
चुपके से चले गये तुम
चुपके से चले गये तुम
Surinder blackpen
💐अज्ञात के प्रति-114💐
💐अज्ञात के प्रति-114💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सितम गर हुआ है।
सितम गर हुआ है।
Taj Mohammad
हमारा प्रेम
हमारा प्रेम
अंजनीत निज्जर
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
Rj Anand Prajapati
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
मैं यूं ही नहीं इतराता हूं।
नेताम आर सी
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
DrLakshman Jha Parimal
कतिपय दोहे...
कतिपय दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
AmanTv Editor In Chief
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...