Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2016 · 1 min read

क्या कहूँ मैं शब्द नहीं हैं मेरे पास व्यथा व्यक्त करने को

क्या कहूँ मैं शब्द नहीं हैं मेरे पास व्यथा व्यक्त करने को,
जिसे जन्म देकर पाला पोसा वो ही छोड़ गया मरने को।

नौ महीने गर्भ में रखा उसे, रही दुख सहती दिन रात मैं,
जन्म देकर भूल गयी दुखों को, भूल गयी सारी बात मैं।

राजकुमारों सी दी परवरिश, पूरी की मैंने हर फरमाइश,
सदा खुश रहे लाल मेरा बस एक यही थी मेरी ख्वाहिश।

पढ़ाया लिखाया उसे मैंने अपनी जरूरतों को मार कर,
नौकरी लगी उसकी ख़ुशी जाहिर की नजर उतार कर।

किया मनचाहा रिश्ता उसका, फिर की शादी धूमधाम से,
बदलने लगा धीरे धीरे वो नफरत होने लगी माँ नाम से।

उसके घर संसार में मेरे लिए कोई जगह अब बची नहीं,
मखमली गलीचों के बीच में माँ रूपी टाट उसे जची नहीं।

छोड़ दिया उसने बेसहारा गाय सा मुझे लाचार होने पर,
लगी गयी झूठी शान की काई मेरे बेटे रूपी खरे सोने पर।

दिल से अब भी उसकी सलामती की दुआ निकलती है,
सब्र है मुझे सुलक्षणा तुझ जैसों से दो रोटी तो मिलती है।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

2 Likes · 1 Comment · 330 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ सुलक्षणा अहलावत
View all
You may also like:
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
Krishna Kumar ANANT
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर जी की १३२ वीं जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
इतनी उदासी और न पक्षियों का घनेरा
Charu Mitra
साज़िश
साज़िश
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
जीवन  आगे बढ़  गया, पीछे रह गए संग ।
जीवन आगे बढ़ गया, पीछे रह गए संग ।
sushil sarna
मेरे देश के युवाओं तुम
मेरे देश के युवाओं तुम
gurudeenverma198
*छतरी (बाल कविता)*
*छतरी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Kagaj ki nav ban gyi mai
Kagaj ki nav ban gyi mai
Sakshi Tripathi
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
Sudha Maurya
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई
Prof Neelam Sangwan
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
फूलों की महक से मदहोश जमाना है...
कवि दीपक बवेजा
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
Hitanshu singh
हर इंसान होशियार और समझदार है
हर इंसान होशियार और समझदार है
पूर्वार्थ
उम्मीद का दिया जलाए रखो
उम्मीद का दिया जलाए रखो
Kapil rani (vocational teacher in haryana)
ज़ख्म सिल दो मेरा
ज़ख्म सिल दो मेरा
Surinder blackpen
■ सुविचार
■ सुविचार
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
💐प्रेम कौतुक-475💐
💐प्रेम कौतुक-475💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
Neeraj Agarwal
मां बाप के प्यार जैसा  कहीं कुछ और नहीं,
मां बाप के प्यार जैसा कहीं कुछ और नहीं,
Satish Srijan
कैसे आंखों का
कैसे आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बेटियां ?
बेटियां ?
Dr.Pratibha Prakash
Loading...