Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

‘क्या कहता है दिल’

कविता – ‘क्या कहता है दिल’
~~~~~~~~~~~~~~~
कुछ करने-कहने से पहले,
खुद से आकर मिल।
सुनो समझलो अंतर्मन को,
क्या कहता है दिल॥

हम जो भी कहते हैं किसी को,
हो मीठा और मनोहारी।
कर्म करें हम ऐसा हरदम,
जो होवे नित हितकारी॥
कभी भूलकर भी मत करना,
जो होवे बोझिल।
सुनो समझलो अंतर्मन को,
क्या कहता है दिल॥१॥

कुछ न कुछ तो सब करते हैं,
बिना किए रहता है कौन।
वाणी है तो बात भी करता,
हरदम न रहता कोई मौन॥
इतना सरल बना लो ख़ुद को,
न होवे मुश्किल॥
सुनो समझलो अंतर्मन को,
क्या कहता है दिल॥२॥

जैसा ख़ुद के लिए चाहते,
औरों से व्यवहार करो।
हो जाए गर भूल, भूल से,
बिना झिझक स्वीकार करो॥
‘अंकुर’ खुद को बना लीजिए,
सादा और सरल।
सुनो समझलो अंतर्मन को,
क्या कहता है दिल॥३॥

– ✍️ निरंजन कुमार तिलक ‘अंकुर’
छतरपुर मध्यप्रदेश

Language: Hindi
231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लडकियाँ
लडकियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
जैसी लफ़्ज़ों में
जैसी लफ़्ज़ों में
Dr fauzia Naseem shad
* विजयदशमी मनाएं हम *
* विजयदशमी मनाएं हम *
surenderpal vaidya
हे मेरे प्रिय मित्र
हे मेरे प्रिय मित्र
कृष्णकांत गुर्जर
अहा! लखनऊ के क्या कहने!
अहा! लखनऊ के क्या कहने!
Rashmi Sanjay
ख्वाइश है …पार्ट -१
ख्वाइश है …पार्ट -१
Vivek Mishra
"हाय री कलयुग"
Dr Meenu Poonia
"■ दोहा / प्रकाश पर्व पर
*Author प्रणय प्रभात*
वेदना में,हर्ष  में
वेदना में,हर्ष में
Shweta Soni
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Dil toot jaayein chalega
Dil toot jaayein chalega
Prathmesh Yelne
💐प्रेम कौतुक-495💐
💐प्रेम कौतुक-495💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
चंद्र शीतल आ गया बिखरी गगन में चाँदनी।
लक्ष्मी सिंह
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
सत्य कुमार प्रेमी
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
हुए अजनबी हैं अपने ,अपने ही शहर में।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
नींद और ख्वाब
नींद और ख्वाब
Surinder blackpen
राम से जी जोड़ दे
राम से जी जोड़ दे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विदंबना
विदंबना
Bodhisatva kastooriya
देश के वीरों की जब बात चली..
देश के वीरों की जब बात चली..
Harminder Kaur
आह जो लब से निकलती....
आह जो लब से निकलती....
अश्क चिरैयाकोटी
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
छठ व्रत की शुभकामनाएँ।
Anil Mishra Prahari
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
Atul "Krishn"
*सरल हृदय के भावों को ले आओ (हिंदी गजल/गीतिका)*
*सरल हृदय के भावों को ले आओ (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
मकर पर्व स्नान दान का
मकर पर्व स्नान दान का
Dr. Sunita Singh
अनजान राहे अनजान पथिक
अनजान राहे अनजान पथिक
SATPAL CHAUHAN
साधु न भूखा जाय
साधु न भूखा जाय
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...