Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

कौन हो तुम

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

कौन हो तुम

बहती नदी सा व्यक्तित्व है इस अबोध का ।।
चाहो तो आप भी प्रेम से इक गोता, लगाइये ।।
औपचारिकता प्रसंग ना, कोई संवाद चाहिये ।।
उसको तो प्रेम का भावुक, मीठा स्पर्श चाहिए ।।
मानव प्रकल्प का जिसमें हो सौंधा स्पर्श घुला घुला ।।
बहती नदी सा व्यक्तित्व है इस अबोध का ।।
आदत से आदमी हूँ , अनुभव से आत्मा
चाहो तो तुम भी प्रेम से इक गोता, लो लगा ।।
एषणाएं प्रेषणाएँ कर्तव्य की हों घोषणाएं
सार्थक सन्दर्भ की चहुदिस गूंजती हों ऋचाएं ।।
ऐसा ही आप सब में व्यवहार आचार चाहिए
भीग जाएँ विश्व जिसमें , वो सन्मार्ग चाहिए ।।
रहेगा याद तुमको, ये सानिध्य, मेरे ख्याल से
सुंदर सफ़ीना उस आंकलन का आधार चाहिए ।।
स्वतंत्रता को जो सभी की सम्मान दे सके
निज स्वार्थ से परे वो सबको आधार दे सके।।
ऐसे सपन को इसके अब जीवंत होना चाहिए
सुंदर सफ़ीना उस आंकलन का आधार चाहिए ।।
ऐसा ही आप सब में व्यवहार आचार चाहिए
भीग जाएँ विश्व जिसमें , वो सन्मार्ग चाहिए ।।
तृण मात्र भी भौतिकता का ना अवसाद चाहिए
मौलिक हों जिसके भाव वो इंसान चाहिए ।।
बहती नदी सा व्यक्तित्व है इस अबोध का ।।
चाहो तो आप भी प्रेम से इक गोता, लगाइये ।।

1 Like · 166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
जै जै जै गण पति गण नायक शुभ कर्मों के देव विनायक जै जै जै गण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"हालात"
Dr. Kishan tandon kranti
💐अज्ञात के प्रति-54💐
💐अज्ञात के प्रति-54💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुनो - दीपक नीलपदम्
सुनो - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
शेखर सिंह
शहीद की पत्नी
शहीद की पत्नी
नन्दलाल सुथार "राही"
आंखों की भाषा के आगे
आंखों की भाषा के आगे
Ragini Kumari
चंचल पंक्तियाँ
चंचल पंक्तियाँ
Saransh Singh 'Priyam'
बहुत
बहुत
sushil sarna
*गाता गाथा राम की, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*गाता गाथा राम की, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्यार में ही तकरार होती हैं।
प्यार में ही तकरार होती हैं।
Neeraj Agarwal
हवा में हाथ
हवा में हाथ
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
"महंगा तजुर्बा सस्ता ना मिलै"
MSW Sunil SainiCENA
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
मां की दूध पीये हो तुम भी, तो लगा दो अपने औलादों को घाटी पर।
Anand Kumar
दिल  में हसरत  जगे तो दबाना नहीं।
दिल में हसरत जगे तो दबाना नहीं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
Anil chobisa
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
वीरवर (कारगिल विजय उत्सव पर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
डी. के. निवातिया
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
बाबा नीब करौरी
बाबा नीब करौरी
Pravesh Shinde
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
23/175.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/175.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम इन हसीनाओं से
तुम इन हसीनाओं से
gurudeenverma198
The Earth Moves
The Earth Moves
Buddha Prakash
Loading...