Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2022 · 1 min read

कौन लोग थे

दिल पर दस्तक देने वाले ,कौन‌ लोग थे।
लग गये जो हमको जाने ,क्या रोग थे।

किन किन बातों पर ,आंखें उसकी छलकी
मैं न जाना उसके मन में क्या सोग थे।

भूखे पेट भिखारी करे उस ईश्वर से मिन्नतें
जिस ईश्वर के आगे रखें छप्पन भोग थे।

न तन संभला ,न मन ही संभला है हम से
घर से निकले हम कमाने को जोग थे।

खुद से मुलाकात करने को ,खुद से उलझे
न खुद को मिले,न खुदा मिला क्या संयोग थे।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
3197.*पूर्णिका*
3197.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कड़वा सच~
कड़वा सच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
"प्रकृति की ओर लौटो"
Dr. Kishan tandon kranti
ये पहाड़ कायम है रहते ।
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
Sukoon
माँ तुझे प्रणाम
माँ तुझे प्रणाम
Sumit Ki Kalam Se Ek Marwari Banda
💐प्रेम कौतुक-184💐
💐प्रेम कौतुक-184💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
#सुप्रभात
#सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
आदिवासी कभी छल नहीं करते
आदिवासी कभी छल नहीं करते
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मानव जीवन में जरूरी नहीं
मानव जीवन में जरूरी नहीं
Dr.Rashmi Mishra
हिन्द के बेटे
हिन्द के बेटे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
शेखर सिंह
शिर्डी के साईं बाबा
शिर्डी के साईं बाबा
Sidhartha Mishra
*नन्हे पैरों चलती मुनिया, अच्छी लगती है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*नन्हे पैरों चलती मुनिया, अच्छी लगती है (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
हे अल्लाह मेरे परवरदिगार
हे अल्लाह मेरे परवरदिगार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक
मुक्तक
Mahender Singh
सत्य
सत्य
लक्ष्मी सिंह
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
जीवन संवाद
जीवन संवाद
Shyam Sundar Subramanian
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
Ajay Kumar Vimal
आप और जीवन के सच
आप और जीवन के सच
Neeraj Agarwal
आदर्श शिक्षक
आदर्श शिक्षक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जमाने में
जमाने में
manjula chauhan
👌ग़ज़ल👌
👌ग़ज़ल👌
*Author प्रणय प्रभात*
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
Rajesh Kumar Arjun
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...