Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

कौन जाने आखिरी दिन ,चुप भरे हों या मुखर【हिंदी गजल/गीतिका 】

कौन जाने आखिरी दिन ,चुप भरे हों या मुखर【हिंदी गजल/गीतिका 】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
कौन जाने आखिरी दिन ,चुप भरे हों या मुखर
कौन जाने हों कहाँ पर, अस्पतालों में या घर (1)

होश में हों या नहीं, कुछ याद या भूले हुए
कौन जाने कुछ पता हो, या नहीं अपनी डगर (2)

बन न जाएँ खुद तमाशा, हम कहीं बाजार में
लोग आएँ देखने, यह सोचकर लगता है डर (3)

जिंदगी जब जी नहीं पाएँ ,नहीं ढोना पड़े
याचना इतनी है मालिक, याद रह जाए अगर (4)

आदमी की हैसियत का, आकलन तो कीजिए
तन से गई जब सॉंस तो, फिर राख मटकी भर (5)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तरप्रदेश
मोबाइल 999 761 54 51

107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
सच तो तस्वीर,
सच तो तस्वीर,
Neeraj Agarwal
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सफर में महोब्बत
सफर में महोब्बत
Anil chobisa
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
Dushyant Kumar
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
वीर रस की कविता (दुर्मिल सवैया)
नाथ सोनांचली
भारत का बजट
भारत का बजट
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
3138.*पूर्णिका*
3138.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समय देकर तो देखो
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
सिलसिले..वक्त के भी बदल जाएंगे पहले तुम तो बदलो
पूर्वार्थ
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Buddha Prakash
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
नूरफातिमा खातून नूरी
"स्मार्ट विलेज"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ तेरे चरणों मे
माँ तेरे चरणों मे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हैप्पी न्यू ईयर 2024
हैप्पी न्यू ईयर 2024
Shivkumar Bilagrami
हे मेरे प्रिय मित्र
हे मेरे प्रिय मित्र
कृष्णकांत गुर्जर
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
ईश्वर का अस्तित्व एवं आस्था
Shyam Sundar Subramanian
विचार और रस [ दो ]
विचार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
बेबाक ज़िन्दगी
बेबाक ज़िन्दगी
Neelam Sharma
- वह मूल्यवान धन -
- वह मूल्यवान धन -
Raju Gajbhiye
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
Sampada
छल
छल
गौरव बाबा
जिज्ञासा
जिज्ञासा
Dr. Harvinder Singh Bakshi
यारों का यार भगतसिंह
यारों का यार भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
मैं दुआ करता हूं तू उसको मुकम्मल कर दे,
मैं दुआ करता हूं तू उसको मुकम्मल कर दे,
Abhishek Soni
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
gurudeenverma198
*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*
*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
कविता : आँसू
कविता : आँसू
Sushila joshi
Loading...