Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

कौन जाने आखिरी दिन ,चुप भरे हों या मुखर【हिंदी गजल/गीतिका 】

कौन जाने आखिरी दिन ,चुप भरे हों या मुखर【हिंदी गजल/गीतिका 】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
कौन जाने आखिरी दिन ,चुप भरे हों या मुखर
कौन जाने हों कहाँ पर, अस्पतालों में या घर (1)

होश में हों या नहीं, कुछ याद या भूले हुए
कौन जाने कुछ पता हो, या नहीं अपनी डगर (2)

बन न जाएँ खुद तमाशा, हम कहीं बाजार में
लोग आएँ देखने, यह सोचकर लगता है डर (3)

जिंदगी जब जी नहीं पाएँ ,नहीं ढोना पड़े
याचना इतनी है मालिक, याद रह जाए अगर (4)

आदमी की हैसियत का, आकलन तो कीजिए
तन से गई जब सॉंस तो, फिर राख मटकी भर (5)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तरप्रदेश
मोबाइल 999 761 54 51

30 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from Ravi Prakash

You may also like:
तुझसे बिछड़ने के बाद
तुझसे बिछड़ने के बाद
Surinder blackpen
होते वो जो हमारे पास ,
होते वो जो हमारे पास ,
श्याम सिंह बिष्ट
युग बीते और आज भी ,
युग बीते और आज भी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
है मुश्किल दौर सूखी,
है मुश्किल दौर सूखी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ अद्भुत, अद्वितीय, अकल्पनीय
■ अद्भुत, अद्वितीय, अकल्पनीय
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-425💐
💐प्रेम कौतुक-425💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
हुस्न अगर बेवफा ना होता,
Vishal babu (vishu)
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
लुकन-छिपी
लुकन-छिपी
Dr. Rajiv
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
*नाम है इनका, राजीव तरारा*
Dushyant Kumar
मंजिले तड़प रहीं, मिलने को ए सिपाही
मंजिले तड़प रहीं, मिलने को ए सिपाही
Er.Navaneet R Shandily
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
संतोष तनहा
"तस्वीर"
Dr. Kishan tandon kranti
रोकोगे जो तुम...
रोकोगे जो तुम...
डॉ.सीमा अग्रवाल
একটি চিঠির খসড়া
একটি চিঠির খসড়া
Sakhawat Jisan
बन गई पाठशाला
बन गई पाठशाला
rekha mohan
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
Dr. Kishan Karigar
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*चंदा मॉंगो शान से, झाड़ो बढ़िया ज्ञान (कुंडलिया)*
*चंदा मॉंगो शान से, झाड़ो बढ़िया ज्ञान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शे'र
शे'र
Anis Shah
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
मनोज कर्ण
जज़्बा क़ायम जिंदगी में
जज़्बा क़ायम जिंदगी में
Satish Srijan
भारत
भारत
Bodhisatva kastooriya
वक्त के लम्हों ने रुलाया है।
वक्त के लम्हों ने रुलाया है।
Taj Mohammad
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
Shashi kala vyas
Loading...