Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2023 · 1 min read

कोहिनूराँचल

कोहिनूराँचल
=========================
कोहिनूर अंचल करें, इस जग को उजियार।
जीवन में खुशियाँ भरे, और हृदय मनुहार।।

जीवन जीने की कला, सीख सके सब लोग।
नहीं रहें मन में कभी, कलुषित कुत्सित रोग।।

सुख तरुवर की छाँव सी, दुख कंटक के शूल।
मन में रखो विनम्रता, जीवन के अनुकूल।।

धीरज धारण जो करे, मन में रख विश्वास।
दुख का होता है नहीं, उस जन को आभास।।

तन शुभता का धाम हो, मन सत्संगी संत।
‘श्रद्धा’ प्रभु पग धाम में, हो जीवन पर्यंत।।
==========================
डिजेन्द्र कुर्रे “कोहिनूर” ✍️✍️

1 Like · 72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
संस्कारी बड़ी - बड़ी बातें करना अच्छी बात है, इनको जीवन में
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ाकर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ाकर चले गए...
Sunil Suman
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
जो भी कहा है उसने.......
जो भी कहा है उसने.......
कवि दीपक बवेजा
सखी री, होली के दिन नियर आईल, बलम नाहिं आईल।
सखी री, होली के दिन नियर आईल, बलम नाहिं आईल।
राकेश चौरसिया
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में सुरेंद्र मोहन मिश्र पुरातात्विक संग्रह : एक अवलोकन*
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में सुरेंद्र मोहन मिश्र पुरातात्विक संग्रह : एक अवलोकन*
Ravi Prakash
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
Dr. Narendra Valmiki
💐प्रेम कौतुक-211💐
💐प्रेम कौतुक-211💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
DrLakshman Jha Parimal
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
World Tobacco Prohibition Day
World Tobacco Prohibition Day
Tushar Jagawat
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
सीख का बीज
सीख का बीज
Sangeeta Beniwal
कागजी फूलों से
कागजी फूलों से
Satish Srijan
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
हमें कोयले संग हीरे मिले हैं।
surenderpal vaidya
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
आर.एस. 'प्रीतम'
अजीब सी बेताबी है
अजीब सी बेताबी है
शेखर सिंह
पहचान तेरी क्या है
पहचान तेरी क्या है
Dr fauzia Naseem shad
DR. ARUN KUMAR SHASTRI
DR. ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आदिकवि सरहपा।
आदिकवि सरहपा।
Acharya Rama Nand Mandal
वो मुझ को
वो मुझ को "दिल" " ज़िगर" "जान" सब बोलती है मुर्शद
Vishal babu (vishu)
"बिन तेरे"
Dr. Kishan tandon kranti
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
कोई हमको ढूँढ़ न पाए
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
फितरत
फितरत
Dr.Khedu Bharti
Loading...