Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 1 min read

कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA

* चोरी-चकारी का डर भय समाप्तप्राय रहा। चाहो तो घर के दरवाज़े खोलकर सो लो!

** लुच्चे-लफंगे, गाली के गुंडे इस पीरियड में ’बेरोजगार’ रहे। स्कूलों-कॉलेजों, गर्ल्स हॉस्टलों के बंद होने से ये ऑनलाइन छिछोरी हरक़त कर ही काम चला रहे होंगे!

***गली-मोहल्लों के बाइकर्स गैंग की दनदनाती-हुर्रहुर्राटी हरक़तें लगाम थामने को विवश हुए।

*****गुटखा-तम्बाकू सेवन करने वालों को भी खुराक के अभाव में थरथरी पकड़ रही है।

******बिहार में शराबबंदी में भी जीवट और व्यवस्था वाले मस्त हो लेते थे। यह कन्सेशन भी लुट गया था। अस्तु, पिटे लोग इक्कीस दिन तक बिस्तर पर लेटने-लोटने और मातम मनाने, बिसूरने पर बाध्य रहे।

*******भक्ति के भोंपू जो मन्दिरों-मस्जिद से बजकर चैन से रहना-सोना हराम करते थे, उनसे भी उन दिनों पिंड छूटा।

*********पार्क, जू, थियेटर एवं निर्जन कोनों को मुहैया कराने वाले अन्य सारे सार्वजनिक स्पॉट भी बन्द रहे और लोग भी घरों में नजरबंद, सो, नैतिक-अनैतिक दैहिक प्रेम-व्यापार के ’प्रकट’ दरवाजे बंद रहने की वजह से इंटनरेट ही मात्र दिलासादेह सहारा रहा लोगों का।

छिपे रुस्तम रेड एरिया में फ्लर्ट करने के राहियों की भी दुर्दशा रही, क्लब, सैलून, स्पा तक बंद थे।

निचोड़! कोरोना-भय ने जो सख़्त सोशल डिस्टेंसिंग बरतवाई, उसने अनेक सोशल इविल्स (सामाजिक बुराइयों) को अस्थायी तौर पर ही सही, नेस्तनाबूद किए रखा!

266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
तारीफों में इतने मगरूर हो गए थे
कवि दीपक बवेजा
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
चंद ख्वाब मेरी आँखों के, चंद तसव्वुर तेरे हों।
चंद ख्वाब मेरी आँखों के, चंद तसव्वुर तेरे हों।
Shiva Awasthi
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
वो खिड़की जहां से देखा तूने एक बार
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
Dr. Harvinder Singh Bakshi
Typing mistake
Typing mistake
Otteri Selvakumar
अगर प्रेम में दर्द है तो
अगर प्रेम में दर्द है तो
Sonam Puneet Dubey
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
DrLakshman Jha Parimal
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ ऋणम कृत्वा घृतं पिवेत।।
■ ऋणम कृत्वा घृतं पिवेत।।
*प्रणय प्रभात*
*रामलला त्रेता में जन्में, पूर्ण ब्रह्म अवतार हैं (हिंदी गजल
*रामलला त्रेता में जन्में, पूर्ण ब्रह्म अवतार हैं (हिंदी गजल
Ravi Prakash
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नेता की रैली
नेता की रैली
Punam Pande
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
“Mistake”
“Mistake”
पूर्वार्थ
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
*
*"संकटमोचन"*
Shashi kala vyas
Navratri
Navratri
Sidhartha Mishra
सूखी नहर
सूखी नहर
मनोज कर्ण
प्रतिशोध
प्रतिशोध
Shyam Sundar Subramanian
होठों पे वही ख़्वाहिशें आँखों में हसीन अफ़साने हैं,
होठों पे वही ख़्वाहिशें आँखों में हसीन अफ़साने हैं,
शेखर सिंह
बदनाम शराब
बदनाम शराब
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फूल यूहीं खिला नहीं करते कलियों में बीज को दफ़्न होना पड़ता
फूल यूहीं खिला नहीं करते कलियों में बीज को दफ़्न होना पड़ता
Lokesh Sharma
दिल के कोने में
दिल के कोने में
Surinder blackpen
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
डा गजैसिह कर्दम
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
एक तुम्हारे होने से....!!!
एक तुम्हारे होने से....!!!
Kanchan Khanna
Loading...