Sep 20, 2016 · 1 min read

कोन समझाये

कोन समझाये इस जवानी को
शर्म आयेगी खानदानी को

गर सँभल तुम सके न देख कर
वक्त छोड़ेगा तब निशानी को

देश की देखरेख कैसे हो
जब डसे साँप राजधानी को

आज कोई नया न अपनाये
लोग अजमा रहे पुरानी को

डूब जाओगे गीत में मेरे
जब कभी तुम सुनो रवानी को

डॉ मधु त्रिवेदी

69 Likes · 243 Views
You may also like:
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
दया करो भगवान
Buddha Prakash
सलाम
Shriyansh Gupta
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फिजूल।
Taj Mohammad
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H.
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
ऐ जिंदगी।
Taj Mohammad
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नई तकदीर
मनोज कर्ण
Loading...