Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-324💐

कोई दरियादिली कभी न दिखाई गई,
मेरी हर बात मज़ाक से ठुकराई गई,
मैंने अमल किया उनके तसव्वुर से,
उसके रंग की होली दिल में सजाई गई।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
41 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
हथेली पर जो
हथेली पर जो
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
ए जिंदगी ,,
ए जिंदगी ,,
श्याम सिंह बिष्ट
मातृ दिवस
मातृ दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल
मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल
DrLakshman Jha Parimal
विश्व स्वास्थ्य दिवस पर....
विश्व स्वास्थ्य दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
कृष्ण मलिक अम्बाला
छोड दो  उनको  उन  के  हाल  पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
परोपकारी धर्म
परोपकारी धर्म
Shekhar Chandra Mitra
मेरा होना ही हो ख़ता जैसे
मेरा होना ही हो ख़ता जैसे
Dr fauzia Naseem shad
-------ग़ज़ल-----
-------ग़ज़ल-----
प्रीतम श्रावस्तवी
*यह अराजकता हमें( गीत )*
*यह अराजकता हमें( गीत )*
Ravi Prakash
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
डी. के. निवातिया
💐प्रेम कौतुक-469💐
💐प्रेम कौतुक-469💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*हिन्दी बिषय- घटना*
*हिन्दी बिषय- घटना*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कृपा करें त्रिपुरारी
कृपा करें त्रिपुरारी
Satish Srijan
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Sakshi Tripathi
" खामोशी "
Aarti sirsat
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरा परिचय
मेरा परिचय
radha preeti
नाजायज इश्क
नाजायज इश्क
RAKESH RAKESH
सफलता
सफलता
Ankita Patel
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
अगर कोई आपको मोहरा बना कर,अपना उल्लू सीधा कर रहा है तो समझ ल
विमला महरिया मौज
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क़ का असर
इश्क़ का असर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
Mahendra Narayan
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
बाहर जो दिखती है, वो झूठी शान होती है,
लोकनाथ ताण्डेय ''मधुर''
रात सुरमई ढूंढे तुझे
रात सुरमई ढूंढे तुझे
Rashmi Ratn
Loading...